India Rankings 2022 को शिक्षा मंत्री ने जारी किया

शेयर करें

India Rankings 2022 Ko Shiksha Mantri Ne Jari KIya
India Rankings 2022 को शिक्षा मंत्री ने जारी किया

सन्दर्भ:

:केंद्रीय शिक्षा, कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान ने उच्च शिक्षण संस्थानों की India Rankings 2022 जारी की।

India Rankings 2022 प्रमुख तथ्य:

:उच्च शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने में मूल्यांकन, मान्यता और रैंकिंग के लिए मजबूत और एकीकृत प्रणाली प्रमुख भूमिका निभाएगी।
:देश एक ज्ञान आधारित अर्थव्यवस्था बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहा हैं जो नवाचार-आधारित और प्रौद्योगिकी-संचालित हो।
:हमारे उच्च शिक्षण संस्थानों को भारत को एक अग्रणी वैश्विक नवाचार और डिजिटल अर्थव्यवस्था बनाने और पिरामिड आबादी के निचले हिस्से के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को किफायती और सुलभ बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है।
:मान्यता और मूल्यांकन अनिवार्य होगा, और प्रत्येक उच्च शिक्षा संस्थान की मान्यता होना आवश्यक है। मूल्यांकन और प्रत्यायन का आधार स्व-घोषणा और पारदर्शिता होगी।
: India Rankings 2022 के सभी संस्थान एनआईआरएफ रैंकिंग प्रणाली का भी हिस्सा होंगे।
:अगले साल से एनआईआरएफ रैंकिंग श्रेणियों में नवाचार और उद्यमिता को भी शामिल किया जाएगा। एनआईआरएफ रैंकिंग कैटेगरी को जरूरत के हिसाब से बढ़ाया जा सकता है।
:आईटीआई और पॉलिटेक्निक की रैंकिंग पर पहले से ही काम चल रहा है।
:जल्द ही एक ऐसी व्यवस्था होगी जहां प्रत्येक स्कूल को भी मान्यता दी जाएगी। हम राज्य सरकारों को साथ लेकर चलेंगे। माता-पिता को उस स्कूल की स्थिति का पता चल जाएगा जहां बच्चे को प्रवेश दिया जा रहा है।
:हमारी मान्यता और रैंकिंग प्रणाली भी अंतरराष्ट्रीय हो जाएगी और विदेशी संस्थानों को इसका हिस्सा बनने के लिए आकर्षित करेगी।
:सीयूईटी गुणवत्ता और मानकीकरण की दिशा में एक सही कदम है,सीयूईटी में किसी भी शेष चुनौती का जल्द से जल्द समाधान किया जाएगा।
:केवल वे विश्वविद्यालय/कॉलेज जिनके पास एनएएसी ग्रेडिंग या एनआईआरएफ रैंकिंग है, वे वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए यूजीसी अधिनियम, 1956 की धारा 12 बी के तहत यूजीसी द्वारा अनुरक्षित सूची में शामिल होने के लिए पात्र होंगे।
:2016 से 2022 तक इंडिया रैंकिंग के लिए आवेदकों की संख्या में वृद्धि देखि गई जिनकी कुल संख्या 7,254 थी।

:इसमें कुल श्रेणी में 1,876, इंजीनियरिंग में 1,249 और सामान्य डिग्री कॉलेजों में 2,270 शामिल हैं।
: 2016 से 2022,इस दौरान शिक्षण संस्थानों की संख्या में वृद्धि हुई जिनकी कुल संख्या 100 थी।

:विभिन्न श्रेणियों और विषय क्षेत्र में उच्च शिक्षा संस्थान की रैंकिंग के लिए कुल 18 – 21 उप-पैरामीटर का इस्तेमाल किया जाता है।

India Rankings 2022 मापदंडों की पांच व्यापक श्रेणियों:

:अध्यापन, शिक्षण और संसाधन
:अनुसंधान एवं व्यावसायिक अभ्यास
:स्नातक के परिणाम
:लोक संपर्क एवं समावेशिता
:धारणा
:इन पांच मापदंडों में से प्रत्येक में 2 से 5 उप-पैरामीटर हैं।

India Rankings 2022 की मुख्य विशेषताएं:

:भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास ने लगातार चौथे वर्ष समग्र श्रेणी में और लगातार सातवें वर्ष इंजीनियरिंग में अपना पहला स्थान बरकरार रखा है।
:भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु लगातार सातवें वर्ष विश्वविद्यालयों की श्रेणी में शीर्ष पर है।
:यह लगातार दूसरे वर्ष अनुसंधान संस्थानों की श्रेणी में प्रथम स्थान पर रहा।
:IIM अहमदाबाद प्रबंधन विषय में लगातार तीसरे वर्ष अपना पहला स्थान बरकरार रखते हुए शीर्ष पर है।
:अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), नई दिल्ली लगातार पांचवें वर्ष चिकित्सा में शीर्ष स्थान पर है,इसके अलावा, एम्स को पहली बार ओवरऑल कैटेगरी में 9वें स्थान पर रखा गया है।
:जामिया हमदर्द लगातार चौथे साल फार्मेसी में रैंकिंग में शीर्ष पर है।
:आईआईटी रुड़की लगातार दूसरे वर्ष आर्किटेक्चर विषय में प्रथम स्थान पर है।
:नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी, बेंगलुरु ने लगातार पांचवें वर्ष कानून में अपना पहला स्थान बरकरार रखा है।
:दिल्ली के पहले 10 कॉलेजों में से पांच कॉलेजों वाले कॉलेजों की रैंकिंग में दिल्ली के कॉलेजों का दबदबा कायम है।
:मिरांडा हाउस ने लगातार छठे वर्ष कॉलेजों में पहला स्थान बरकरार रखा है।

:समग्र श्रेणी में शीर्ष 100 में 40 सीएफटीआई और सीएफयू (38 तकनीकी संस्थानों सहित), 26 राज्य विश्वविद्यालय, 24 डीम्ड विश्वविद्यालय, 6 निजी विश्वविद्यालय, 7 चिकित्सा संस्थान और 3 प्रबंधन संस्थान शामिल हैं।

इंडिया रैंकिंग 2022 रैंकिंग क्लिक करें

TOP RANKING
TOP RANKING INSTITUTES

शेयर करें

Leave a Comment