Fri. Feb 3rd, 2023
शेयर करें

विश्व ओजोन दिवस
विश्व ओजोन दिवस
Photo@Freepik

सन्दर्भ:

:हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 16 सितम्बर को विश्व ओजोन दिवस मनाया जा रहा है,जो कि ओजोन परत के संरक्षण के लिए बहुत ही जरुरी है।

क्यों मनाया जाता है:

:ओजोन परत के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए

विश्व ओजोन दिवस 2022 थीम/विषय है:

:मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल एट35: पृथ्वी पर जीवन की रक्षा करने वाला वैश्विक सहयोग।

विश्व ओजोन दिवस के बारें में:

:1970 के दशक के अंत में काम कर रहे वैज्ञानिकों ने पाया कि मानवता इस सुरक्षा कवच में छेद कर रही है, तो उन्होंने अपनी चिंता व्यक्त की।
:विश्व ओजोन दिवस पहली बार वर्ष 1995 में मनाया गया था।
:मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर करने के बाद संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 1994 में विश्व ओजोन दिवस की घोषणा की गई थी।
:1985 में दुनिया की सरकारों ने ओजोन परत के संरक्षण के लिए वियना कन्वेंशन को अपनाया और ओजोन परत को बचाने का निर्णय लिया।
:कन्वेंशन के मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल की तरह, सरकारों, वैज्ञानिकों और उद्योग ने सभी ओजोन-क्षयकारी पदार्थों में से 99% को काटने के लिए मिलकर काम किया।
:ओजोन परत,यह समताप मंडल में मात्र 3 मिमी की ढाल है जो हानिकारक यूवी किरणों से पृथ्वी पर खिलने वाले जीवन को बचा रही है।
:इसके अलावा, परत कुछ जगहों पर और भी पतली हो जाती है और उस कमी को हम ओजोन छिद्र कहते हैं।
:काफी हद तक, ओजोन का क्षरण ओजोन-क्षयकारी पदार्थों (ओडीएस) के उपयोग के माध्यम से होता है जिसमें क्लोरोफ्लोरोकार्बन, हैलोन, मिथाइल क्लोरोफॉर्म जैसी गैसें शामिल हैं।
:तीन प्रकार के यूवी विकिरण हैं जो ओजोन परत, पूरी तरह या आंशिक रूप से, हमें यूवी ए, बी और सी से बचाते हैं।
: मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के बिना 2040 तक ओजोन परत गायब हो सकती है ऐसा अध्ययन का मानना है।
:भारत की ओर से भी इसके संरक्षण का प्रयास किया जा रहा है इसके लिए 2019 में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने ICAP अर्थात India Cooling Action Plan को लांच किया।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *