Fri. Feb 3rd, 2023
शेयर करें

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी
Photo@PIB

सन्दर्भ:

: भारत की माननीया राष्ट्रपति ने बेंगलुरू में दक्षिणी क्षेत्र के आईसीएमआर- नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी का शिलान्यास किया।

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से जुड़े प्रमुख तथ्य:

: आईसीएमआर का अनुसंधान बुनियादी ढांचे का यह एक विस्तार है।
: नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) भी विषाणु विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास को बढ़ाने के लिए हर संभव कदम उठा रहा है।
: नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी को विश्व स्वास्थ्य संगठन की सहयोगी प्रयोगशालाओं में से एक के रूप में नामित किया गया है।
: राष्ट्रपति के हाथों बेंगलुरू में एनआईवी-दक्षिण क्षेत्र का शिलान्यास करने को एक महान सम्मान बताया गया।
: हमारी स्वास्थ्य रक्षा प्रणाली को मजबूत करने की दिशा में यह नया एनआईवी एक कदम आगे है।
: PM-ABHIM अर्थात प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत स्वास्थ्य अवसंरचना मिशन के तहत पूरे देश में जैव-सुरक्षा तैयारियों और महामारी अनुसंधान को मजबूत करने के लिए 4 क्षेत्रीय एनआईवी सहित बहुक्षेत्रीय राष्ट्रीय संस्थानों और प्लेटफार्मों को स्थापित करने के लिए धनराशि की मंजूरी दी गई है।
: देखा जाए तो ICMR- NIV ने अपनी स्थापना से ही सार्वजनिक स्वास्थ्य महत्व के वायरल संक्रमणों के लिए तीव्र प्रतिक्रिया देने के मामले में आगे बढ़कर नेतृत्व किया है।
: भारत का पहला स्वदेशी टीका- कोवैक्सिन के निर्माण में एनआईवी ने संभावित एंटीवायरल दवाओं की जांच की, कई किट सत्यापन किए, बड़े पैमाने पर प्रशिक्षण के साथ नए निदान विकसित कर योगदान दिया।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *