Sat. Feb 24th, 2024
शेयर करें

VL-SRSAM मिसाइल
VL-SRSAM मिसाइल
Photo@Twitter

सन्दर्भ:

:DRDO और भारतीय नौसेना ने 23 अगस्त, 2022 को ओडिशा के तट पर चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज (ITR) से VL-SRSAM मिसाइल के लंबवत प्रक्षेपण का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।

VL-SRSAM मिसाइल के बारें में:

:यह कम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल है।
:डीआरडीओ ने इस VL-SRSAM प्रणाली को स्वदेशी रूप से डिजाइन और विकसित किया है।
:इस मिसाइल का लंबवत प्रक्षेपण क्षमता को प्रदर्शित करने हेतु एक उच्च गति वाले मानव रहित हवाई लक्ष्य के विरुद्ध यह परीक्षण भारतीय नौसेना के पोत से किया गया।
:स्वदेशी रेडियो फ्रीक्वेंसी (RF) सीकर से युक्त मिसाइलों ने उच्च सटीकता के साथ इस लक्ष्य पर निशाना साधा गया।
:ITR ने इस परीक्षण प्रक्षेपण के समय रडार, इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल निगरानी प्रणाली (EOTS) और टेलीमेट्री प्रणाली जैसे विभिन्न रेंज उपकरणों के द्वारा प्राप्त किए गए प्रक्षेपण संबंधी डेटा का उपयोग करके प्रक्षेपण पथ और वाहन (मिसाइल) प्रदर्शन मापदंडों की निगरानी की।
:इस प्रक्षेपण की निगरानी DRDL, हैदराबाद स्थित रिसर्च सेंटर इमारत (RCI) व पुणे स्थित R & D इंजीनियर्स जैसे सिस्टम के डिजाइन व विकास में शामिल विभिन्न DRDO प्रयोगशालाओं के वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने की थी।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *