MSME सेक्टर के लिए “उद्यमी भारत’ कार्यक्रम

शेयर करें

MSME SECTOR KE LIYE UDYAMI BHARAT PROGRAM
MSME सेक्टर के लिए “उद्यमी भारत’ कार्यक्रम
Photo:Twitter

सन्दर्भ:

:प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 30 जून 2022 को ‘उद्यमी भारत (Udyami Bharat)’ कार्यक्रम में भाग लिया।

प्रमुख तथ्य:

:इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने ‘MSME प्रदर्शन में सुधार तथा तेजी’ (RAMP Scheme) योजना, ‘पहली बार के एमएसएमई निर्यातकों का क्षमता निर्माण’ (CBFTE) योजना और ‘प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम’ (PMEGP) की नई सुविधाओं जैसी प्रमुख पहलों का शुभारंभ किया।
:MSME का अर्थ है- सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को अधिकतम समर्थन,ऐसा प्रधानमंत्री में कहा
:MSME आइडिया हैकथॉन, 2022 के परिणाम घोषित किए, राष्ट्रीय MSME पुरस्कार, 2022 वितरित किए और आत्मनिर्भर भारत (SRI) फंड में 75 एमएसएमई को डिजिटल इक्विटी सर्टिफिकेट जारी किए।
:भारत का एक्सपोर्ट लगातार बढ़े,भारत के प्रॉडक्ट्स नए बाजारों में पहुंचें इसके लिए देश के MSME सेक्टर का सशक्त होना बहुत जरूरी है।
:MSME सेक्टर को मजबूती देने के लिए पिछले आठ साल में सरकार ने बजट में 650 प्रतिशत से ज्यादा की बढोतरी की है।
:इस क्षेत्र से जुड़े हुए लोगो की संख्या 11 करोड़ है।
:GeM में, MSME को सरकार को सामान और सेवाएं प्रदान करने के लिए एक बहुत ही मजबूत मंच मिला है।
:MSME क्षेत्र को मजबूत करना पूरे समाज को मजबूत करना है।
:सरकार सहयोग देने के साथ नीतियों में भी जरूरी बदलाव कर रही है।
:उद्यमशीलता को हर भारतीय के लिए सहज बनाने में मुद्रा योजना की बहुत बड़ी भूमिका है।
:पहली बार खादी और ग्रामोद्योग का टर्नओवर 1 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंचा है।
:विगत 8 वर्षों में खादी की बिक्री 4 गुणा बढ़ी है।


शेयर करें

Leave a Comment