Mon. Dec 5th, 2022
LVM3 का सफल प्रक्षेपण
शेयर करें

सन्दर्भ:

: वैश्विक कनेक्टिविटी के लिए 36 OneWeb सैटेलाइट्स के साथ सबसे भारी प्रक्षेपण यान LVM3 का सफल प्रक्षेपण किया गया।

LVM- 3 के प्रक्षेपण से जुड़े प्रमुख तथ्य:

: इसका विकास ISRO, NSIL, INSPACeIND ने किया है।
: GSLV-Mk3 या LVM3 आत्मनिर्भरता की अनूठी मिसाल है और वैश्विक कमर्शियल लॉन्च सेवा बाजार में भारत की प्रतिस्पर्धात्मक बढ़त को ये बढ़ाता है।
: ब्रिटेन स्थित ग्राहक के लिए 36 ब्रॉडबैंड संचार उपग्रहों को निचली कक्षा (LEO) में स्थापित किया गया।
: ISRO के LVM- 3 बोर्ड पर OneWeb LEO उपग्रहों को प्रक्षेपित करने के लिए लंदन मुख्यालय वाली नेटवर्क एक्सेस एसोसिएटेड लिमिटेड (OneWeb) के साथ दो लॉन्च सेवा अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए थे।
: OneWeb एक निजी उपग्रह संचार कंपनी है,जिसमें भारत की भारती एंटरप्राइजेज एक प्रमुख हिस्सेदार है।
: NSIL के माध्यम से LVM- 3 के जरिये पहला वाणिज्यिक प्रक्षेपण है।
: इस रॉकेट की क्षमता 8,000 किलोग्राम तक के उपग्रहों को अंतरिक्ष में ले जाने की है।
: GSLV-Mk3 के चंद्रयान -2 को लॉन्च करने के बाद जून 2019 में GSLV-Mk3 को चालू घोषित किए जाने के बाद यह पहला मिशन था, जिसमें कई पहली और कुछ प्रमुख तकनीकी चुनौतियां थीं, जिन्हें दूर किया गया था।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.