LBSNAA,मसूरी में डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपोजिटरी का उद्घाटन

शेयर करें

LBSNAA-Digital District Repository (DDR) Pradarshani Ka Udghatan
LBSNAA ,मसूरी में डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपोजिटरी (डीडीआर) का उद्घाटन
Photo:PIB

सन्दर्भ:

:आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने 27 जून 2022 को प्रतिष्ठित लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी (LBSNAA),मसूरी में डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपोजिटरी (DDR) का उद्घाटन किया।

प्रमुख तथ्य:

:इस समारोह में लगभग 400 प्रशिक्षु अधिकारियों (OT) ने भाग लिया।
:इस कार्यक्रम में प्रशिक्षु अधिकारियों को अपनी तैनाती वाले जिलों से सम्बंधित कहानियों का योगदान करने के लिए प्रोत्साहित किया गया।
:डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपोजिटरी (DDR) जिले में ‘सूक्ष्म स्तर’ पर भारत की कहानियों को खोजने और उनका दस्तावेजीकरण करने का प्रयास है।
:इसे हमारे स्वतंत्रता संग्राम में योगदान के अनुसार चार श्रेणियों -व्यक्ति और व्यक्तित्व, घटना और कार्यक्रम, जीवित परंपराएं और कलारूप, छिपे हुए खजाने में बांटा गया है।
:इस अवसर पर पुणे में पैदा हुई एक अज्ञात प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी श्री गोदावरी पारुलेकर (तब गोखले) के बारे में बात की,जिसने सत्याग्रहों में भाग लिया और इसके लिए उन्हें वर्ष 1932 में जेल भेजा गया,वह सर्वेंट्स ऑफ इंडिया सोसाइटी की पहली महिला सदस्य थीं।
:डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपोजिटरी (DDR) पर 5 मिनट का एक वीडियो भी दिखाया गया ताकि प्रशिक्षु अधिकारियों को इस परियोजना के बारे में जागरूक किया जा सके और वे इसमें योगदान करें।
:सचिव (संस्कृति) ने आजादी के अमृत महोत्सव के तहत हर घर तिरंगा कार्यक्रम पर प्रकाश डाला,जिसमें घरों और कार्यस्थलों पर तिरंगा फहराया जाएगा।
:इस पहल के पीछे यह तर्क है कि हमें देश-प्रेम की भावना को बढ़ावा देना है।
:देश को तिरंगे की आन, बान और शान का जश्न मनाना है और स्वतंत्रता के 75वें वर्ष में भारत@2047 की दिशा में सामूहिक रूप से काम करके राष्ट्र निर्माण के लिए प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करना है।
:सभी से डिजिटल ज्योत के माध्यम से: https://digitaltribute.in/ पर राष्ट्र के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले वीरों को श्रद्धांजलि देने का अनुरोध किया।
:DDR प्रदर्शनी जनता के लिए 3 जुलाई 2022 तक खुली रहेगी।


शेयर करें

Leave a Comment