Wed. Apr 24th, 2024
INS संध्याकINS संध्याक
शेयर करें

सन्दर्भ:

: प्रथम सर्वेक्षण विशाल मालवाहक जहाज, INS संध्याक (INS Sandhayak) को विशाखापत्तनम में रक्षा मंत्री की गरिमामयी उपस्थिति में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया है।

INS संध्याक के बारें में:

: INS संध्याक (यार्ड 3025) 03 फरवरी, 2024 को शामिल किया गया।
: संध्याक का अर्थ है विशेष खोज करने वाला
: जहाज की आधारशिला 12 मार्च, 2019 को रखी गई थी और जहाज को 05 दिसंबर, 2021 को लॉन्च किया गया था।
: यह बंदरगाह और समुद्र में व्यापक परीक्षणों से गुजर चुका है, जिसके बाद इसे लॉन्‍च किया जाएगा।
: जहाज का विस्थापन 3,400 टन और कुल लंबाई 110 मीटर और बीम 16 मीटर है।
: यह 18 समुद्री मील से अधिक की गति प्राप्त करने में सक्षम है।
: जहाज की प्राथमिक भूमिका सुरक्षित समुद्री नौवहन को सक्षम करने की दिशा में बंदरगाहों, नौवहन चैनलों/मार्गों, तटीय क्षेत्रों और गहरे समुद्रों का पूर्ण पैमाने पर जलमाप चित्रण संबधित जलीय सर्वेक्षण करना है।
: INS संध्याक भारत-प्रशांत महासागर क्षेत्र में एक महाशक्ति के रूप में भारत की भूमिका को और अधिक मजबूत करेगा और भारतीय नौसेना को शांति और सुरक्षा बनाए रखने में सहयोग करेगा।
: INS संध्याक महासागरों के बारे में जानकारी प्राप्त करने और देश के साथ-साथ अन्‍य देशो की रक्षा करने के दोहरे उद्देश्य को प्राप्‍त करने में सहयोगी होगा।
: INS संध्याक गहरे और उथले पानी के मल्टी-बीम इको-साउंडर्स, स्वायत्त अंडरवाटर वाहन, दूर से संचालित वाहन, साइड स्कैन सोनार, डेटा अधिग्रहण और प्रसंस्करण प्रणाली, उपग्रह-आधारित पोजिशनिंग सिस्टम सहित अत्याधुनिक जलमाप चित्रण संबंधी जलीय उपकरणों से सुसज्जित है।
: INS संध्याक के शिखर पर स्थि‍त शिखा एक नाविक के कम्पास के सोलह बिंदुओं को दर्शाती है, जिसमें समुद्र पर सवार एक ‘डिवाइडर’ और एक ‘लंगर’ शामिल है, जो महासागरों की स्थिति का दर्शाता है, यह सर्वेक्षण जहाज की मूल भूमिका है।

INS संध्याक 2jpg
INS संध्याक 2jpg

शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *