Indian Institute of Heritage (IIH) की स्थापना डीम्ड यूनिवर्सिटी के रूप

शेयर करें

Indian Institute of Heritage (IIH)
Indian Institute of Heritage (IIH)

सन्दर्भ:

:सरकार ने यूजीसी (विश्वविद्यालय माने जाने वाले संस्थान) अधिनियम, 2019 के तहत उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर, नोएडा में Indian Institute of Heritage (IIH) को एक डीम्ड यूनिवर्सिटी के रूप में स्थापित करने का निर्णय लिया है।

Indian Institute of Heritage (IIH) प्रमुख तथ्य:

:यह भारतीय विरासत एवं सम्पदा संरक्षण के क्षेत्र में उच्च शिक्षा तथा अनुसंधान सुविधा प्रदान करने वाला देश में अपनी तरह का एकमात्र संस्थान होगा।
:सरकार की देश में इस तरह के और अन्य संस्थान बनाने की कोई योजना नहीं है।
:यह देश की समृद्ध विरासत पर ध्यान केंद्रित करेगा और राष्ट्र के सांस्कृतिक पहलुओं पर शिक्षा प्रदान करेगा।
:Indian Institute of Heritage (IIH) द्वारा निम्न कोर्स ऑफर किए जाते है ,पुरात्तव,संरक्षण,कला का इतिहास,पाण्डुलिपि विज्ञान,संग्रहालय विज्ञान,अभिलेखीय अध्ययन,पुरालेख और मुद्राशास्त्र,और निवारक संरक्षण।
:यह संस्थान समृद्ध भारतीय विरासत से संबंधित इन क्षेत्र में उच्च शिक्षा और अनुसंधान को प्रभावित करेगा और इसके संरक्षण से परास्नातक और पीएचडी पाठ्यक्रमों तक की शिक्षा प्राप्त की जा सकती है।
:सरकार ने पूर्व में निम्न संस्थानों को एकीकृत करके इस संस्थान (आईआईएच) को डीम्ड यूनिवर्सिटी के रूप में स्थापित करना था।
1-इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र का अकादमिक विंग।
2-अभिलेखीय अध्ययन स्कूल।
3-कला, संरक्षण और संग्रहालय विज्ञान के इतिहास के राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान (एनएमआईसीएचएम)
4-पुरातत्व संस्थान (पं. दीनदयाल उपाध्याय पुरातत्व संस्थान)
5-सांस्कृतिक संपत्ति के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय अनुसंधान प्रयोगशाला (एनआरएलसी), लखनऊ।


शेयर करें

Leave a Comment