Mon. Apr 15th, 2024
GI टैगGI टैग
शेयर करें

सन्दर्भ:

: भौगोलिक संकेत रजिस्ट्री ने तमिलनाडु के तीन प्रसिद्ध उत्पादों के साथ सात अन्य क्षेत्रों के उत्पादों को GI टैग प्रदान किया।

GI टैग प्राप्त उत्पादों के बारें में:

: ये उत्पाद है- तमिलनाडु के कन्नियाकुमारी जिले का ‘कन्नियाकुमारी मैटी केला’, तमिलनाडु के जदेरी गांव का ‘जदेरी नमकट्टी’ और तमिलनाडु के ही तिरुनेलवेली के वीरवनल्लूर शहर की छेदीबुट्टा साड़ी।
: कन्नियाकुमारी मैटी केला- औषधीय महत्व वाला पारंपरिक टेबल केला, अत्यधिक सुगंधित, उप-अम्लीय स्वाद के साथ मीठा और ख़स्ता प्रकृति वाला।
: जदेरी नमकट्टी- मिट्टी सफेद रंग, उंगली जैसी आकृति और चिकनी बनावट वाली चिपक जाती है। तिरुवन्नामलाई जिले के जडेरी में जडेरी तिरुमन (नमकट्टी) प्रोड्यूसर्स सोसाइटी द्वारा निर्मित।
: छेदीबुट्टा साड़ी- यह कुशल सौराष्ट्र बुनकरों द्वारा बुना गया।, आर्ट सिल्क और कॉटन मिक्स फैब्रिक से बनी हथकरघा साड़ी, बॉर्डर और पल्लू पर प्रतिष्ठित “पौधे और फूल” की आकृति पेश करती है।
: इनके अलावा, भारत के विभिन्न क्षेत्रों के सात अन्य उत्पाद है-
1- आगरा चमड़े के जूते।
2- बिहार का मार्चा चावल।
3- कश्मीर का मुश्कबुदजी चावल।
4- राजस्थान की नाथद्वारा पिछवाई पेंटिंग।
5- गोवा का अगसेची वेयिंगिम (अगासैम बैंगन)।
6- जम्मू कश्मीर की राजौरी चिकरी लकड़ी शिल्प।
7- सत शिरो भेनो (सत शिरांचो भेंदो) जिसे ओकरा के नाम से भी जाना जाता है, गोवा की एक सब्जी फसल है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *