Mon. Dec 5th, 2022
शेयर करें

12 अगस्त विश्व हाथी दिवस (World Elephant Day)
12 अगस्त विश्व हाथी दिवस (World Elephant Day)

सन्दर्भ:

:आज पुरे विश्व में विश्व हाथी दिवस (World Elephant Day) मनाया जा रहा है।

इसका उद्देश्य है:

:पूरी दुनिया के हाथियों के प्रति जागरूकता और उनके संरक्षण को बढ़ावा देना है।

विश्व हाथी दिवस प्रमुख तथ्य:

:विश्व हाथी दिवस शुरूआत 12 अगस्त 2012 को की गई थी।
:एलिफेंट रिइंट्रोडक्शन फाउंडेशन और फिल्म निर्माताओं पेट्रीसिया सिम्स और माइकल क्लार्क द्वारा साल 2011 में विश्व हाथी दिवस को मनाने का निर्णय किया गया और पहली बार विश्व हाथी दिवस 12 अगस्त 2012 को मनाया गया था।
:हाथी को राष्ट्रीय विरासत पशु भी घोषित किया जा चुका है,ऐसे में हाथियों का संरक्षण प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है।
:भारत में हाथियों की गिनती आखिरी बार 2017 में हुई थी,उस वक्त भारत में हाथियों की कुल संख्या 29,964 हजार थी।
: परन्तु साल दर साल इनकी संख्या का घटना चिंताजनक है।
:एक दशक पहले हाथियों की संख्या देश में 10 लाख तक थी जो इस समय भारी गिरावट के साथ महज 27 हजार रह गई है।
:जबकि देश में 2 हजार हाथियों को बंधक बनाकर रखा गया है,वहीं 100 हाथियों को हर साल जान से मार दिया जाता है।
:इसके अलावा हर साल लगभग 500 लोगों की मौत हाथियों के साथ संघर्ष में चली जाती है।
:हाथियों के घटती संख्या और उनकी मौत भारत के केरल में सबसे ज्यादा होती है।
:केरल में हर तीसरे दिन एक हाथी मारा जाता है।
:हाथी को मारना या नुकसान पहुंचाना कानूनन अपराध है,ऐसा करने पर आरोपियों को वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट 1972 के अनुसार जानवरों की हत्या पर 3 साल तक की सजा और 25 हजार रुपये जुर्माने का प्रावधान है।
:अगर व्यक्ति यह कुकृत्य दोबारा से करता है तो उसे वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट 1972 के तहत 7 साल तक की सजा हो सकती है।
:केरल में एक दुखद घटना भी हुई थी अभी पिछले वर्ष ही पल्लकड़ जिले के मन्नारकड़ में विस्फोटक से भरा अनानास खाने की वजह से एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई थी,जिसने पूरा देश को झकझोर के रखा दिया था।
:हाथी की तीन अलग-अलग प्रजातियां हैं- अफ्रीकी सवाना हाथी, अफ्रीकी वन हाथी और एशियाई हाथी।
:भारत में हाथियों की सर्वाधिक संख्या कर्नाटक में पाई जाती है, जहां इनकी संख्या 6000 के करीब है।
:वर्तमान में देश के 14 राज्यों में लगभग 765008 वर्ग किलोमीटर में हाथियों के 31 रिजर्व हैं,और एशियाई हाथियों की वैश्विक आबादी का 60% से अधिक भारत में है।

: पिछले 3 वर्षों में, कर्नाटक राज्य द्वारा दांदेली हाथी अभयारण्य, नगालैंड द्वारा सिंगफन हाथी अभयारण्य और छत्तीसगढ़ में लेमरू हाथी अभयारण्य को अधिसूचित किया गया है।

भारत द्वारा की जाने वाली पहल:

:हाथियों के सरंक्षण के लिए भारत में फरवरी 1992 में परियोजना हाथी (Project Elephant) शुरू किया गया।
:इसका उद्देश्य हाथियों, उनके आवास और गलियारों की सुरक्षा के लिए देश में हाथी बहुल्य राज्यों को वित्तीय और तकनिकी सहायता प्रदान करना था।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.