Mon. Jan 30th, 2023
शेयर करें

DRDO LASER MISSILE ATGM KA SAFAL PARIKASHAN KIYA
स्वदेशी विकसित लेजर गाइडेड ATGM का सफल परीक्षण
Photo: Twitter

सन्दर्भ:

:28 जून, 2022 को, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) और भारतीय सेना द्वारा केके रेंज में मुख्य युद्धक टैंक (MBT) अर्जुन से स्वदेशी रूप से विकसित लेजर-गाइडेड एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल (ATGM) का सफलतापूर्वक परीक्षण अहमदनगर, महाराष्ट्र में किया गया।

प्रमुख तथ्य:

:इस परीक्षण को आर्मर्ड कोर सेंटर एंड स्कूल (एसीसी एंड एस), अहमदनगर द्वारा समर्थित किया गया था।
:एटीजीएम ने न्यूनतम सीमा पर लक्ष्य को सफलतापूर्वक हरा दिया जिसके परिणामस्वरूप न्यूनतम से अधिकतम सीमा तक लक्ष्यों को शामिल करने की इसकी क्षमता की स्थापना हुई।
:यह एमबीटी अर्जुन की मारक क्षमता को बढ़ाएगा।

लेजर-गाइडेड एटीजीएम के बारे में:

:इसे डीआरडीओ के आर्मामेंट एंड कॉम्बैट इंजीनियरिंग (एसीई) क्लस्टर की दो पुणे (महाराष्ट्र) आधारित सुविधाओं द्वारा विकसित किया गया है।
:आयुध अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान (एआरडीई) और उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (एचईएमआरएल); इंस्ट्रूमेंट्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट इस्टैब्लिशमेंट (IRDE), देहरादून (उत्तराखंड) के सहयोग से।
:इसमें मल्टी-प्लेटफॉर्म लॉन्च क्षमता है और वर्तमान में एमबीटी अर्जुन की 120 मिमी राइफल वाली बंदूक से तकनीकी मूल्यांकन परीक्षण चल रहा है।
:यह 1.5 से 5 किलोमीटर की रेंज में एक्सप्लोसिव रिएक्टिव आर्मर (ERA) संरक्षित बख्तरबंद वाहनों को हराने के लिए टेंडेम हाई एक्सप्लोसिव एंटी-टैंक (HEAT) वारहेड का उपयोग करता है।
:अग्रानुक्रम शब्द का अर्थ है विरोधी टैंकों के सुरक्षात्मक कवच को प्रभावी ढंग से भेदने के लिए एक से अधिक विस्फोटों का उपयोग करने वाली मिसाइलें।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *