Wed. Apr 24th, 2024
सैन्याभ्यास सूर्य किरणसैन्याभ्यास सूर्य किरण
शेयर करें

सन्दर्भ:

: भारत-नेपाल संयुक्त सैन्याभ्यास सूर्य किरण- XVII (SURYA KIRAN- XVII) पिथौरागढ़ में आरंभ

इस सैन्‍याभ्यास का उद्देश्य है:

: शांति स्थापना अभियानों पर संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मुताबिक जंगल युद्ध, पर्वतीय इलाकों में आतंकवाद विरोधी अभियानों और मानवीय सहायता तथा आपदा राहत में संचालन प्रक्रिया को बढ़ाना।

सूर्य किरण- XVII के बारें में:

: यह अभ्यास 24 नवंबर से 07 दिसंबर 2023 तक आयोजित किया जाएगा।
: यह एक वार्षिक सैन्याभ्यास है जिसे दोनों देशों में बारी-बारी से आयोजित किया जाता है।
: सूर्य किरण में हिस्‍सा लेने के लिए 334 सैन्‍य कर्मियों वाली नेपाल सेना की एक टुकड़ी भारत पहुंची है।
: 354 सैन्‍य कर्मियों वाली भारतीय सेना की टुकड़ी का नेतृत्व कुमाऊं रेजिमेंट की एक बटालियन द्वारा तो नेपाल सेना की टुकड़ी का प्रतिनिधित्व तारा दल बटालियन द्वारा किया जा रहा है।
: यह सैन्‍याभ्यास ड्रोनों की तैनाती और ड्रोन-रोधी उपायों, चिकित्सा प्रशिक्षण, विमानन पहलुओं और पर्यावरण संरक्षण पर केंद्रित होगा।
: भारत व नेपाल के सैनिकों के लिए यह सैन्‍याभ्यास उनके विचारों और अनुभवों के आदान-प्रदान के लिए एक मंच उपलब्‍ध करेगा, उत्‍कृष्‍ट व्‍यवहारों को साझा करेगा और एक-दूसरे की परिचालन प्रक्रियाओं की गहरी समझ को बढ़ावा देगा।
: सैन्‍याभ्यास सूर्य किरण भारत और नेपाल के बीच वर्तमान मैत्री, विश्वास, आम सांस्कृतिक संबंधों के मजबूत बंधन का प्रतीक है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *