Mon. Dec 5th, 2022
शेयर करें

सुकापाइका नदी
सुकापाइका नदी
Photo@DTE

सन्दर्भ:

: राष्ट्रिय हरित प्राधिकरण (NGT) ने ओडिशा की राज्य सरकार को छह महीने के भीतर सुकापाइका नदी को पुनर्जीवित करने का निर्देश दिया है।

सुकापाइका नदी से जुड़े प्रमुख तथ्य:

: इसने राज्य सरकार को इस नदी के पुनरुद्धार के लिए एक समर्पित कोष भी बनाने का निर्देश दिया है।
: NGT ने ओडिशा सरकार को 13 मार्च, 2023 तक पूरी नदी पुनरुद्धार परियोजना को पूरा करने के लिए 49.67 करोड़ रुपये का बजटीय आवंटन करने का भी निर्देश दिया।
: सुकापाइका नदी कटक जिले के अयातुर गांव से निकलती है और लगभग 27.5 किमी बह कर बांकला में महानदी से मिलती है।
: इसमें कटक के कटक सदर, रघुनाथपुर और निचिंतकोइली जैसे तीन ब्लॉक शामिल हैं।
: एनजीटी ने आरोप लगाया कि तलदंडा नहर प्रणाली के विकास और सुकापाइका के डेल्टा में बाढ़ सुरक्षा के लिए वर्ष 1950 के दौरान नदी के मुहाने को बंद कर दिया गया था।
: जब यह स्वतंत्र रूप से बह रही थी, सुकापाइका नदी 26 ग्राम पंचायतों के तहत 425 से अधिक गांवों में पीने के पानी, सिंचाई और अन्य आजीविका के अवसरों के स्रोत के रूप में काम करती थी।
: नदी का मुहाना बंद होने के बाद ये आर्थिक गतिविधियां लाभदायक नहीं रहीं है।
: इन गाँवों के निवासी आलू, टमाटर, फूलगोभी आदि जैसी सब्जियों की खेती करते थे और मत्स्य पालन में भी शामिल थे।
: 1952 में, ओडिशा सरकार ने सुकापाइका के डेल्टा में बाढ़ को रोकने के लिए एक तटबंध के साथ नदी के शुरुआती बिंदु को अवरुद्ध कर दिया।
: 1957 में, दो प्रमुख परियोजनाएं – हीराकुंड बांध और नारज बैराज – बाढ़ को रोकने के लिए महानदी नदी पर बनाई गई थीं।
: हालांकि, सुकापियाका नदी के शुरुआती बिंदु पर तटबंध नहीं हटाया गया, जिससे वितरण पूरी तरह से वर्षा जल पर निर्भर हो गया।
: चूंकि नदी ने अपनी जल धारण क्षमता खो दी है, यह लगभग पूरे वर्ष सूखी ही रहती है।
: इससे क्षेत्र के गांवों के साढ़े पांच लाख लोगों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।
: नदी के तल का क्षरण हो गया है और जलकुंभी का भारी जमाव है।
: पिछले कुछ वर्षों में मृत नदी के किनारे कई अतिक्रमण होने लगे हैं और पूरे नदी तल को ठोस और तरल कचरे के लिए डंपिंग ग्राउंड में बदल दिया गया है।
: यह आदेश एनजीटी के पूर्वी क्षेत्र खंडपीठ के न्यायिक सदस्य अमित स्टालेकर और विशेषज्ञ सदस्य सैबल दासगुप्ता द्वारा दिया गया।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.