सर्न ने रूस के पर्यवेक्षक का दर्जा निलंबित किया

शेयर करें

CERN
सर्न ने रूस के पर्यवेक्षक का दर्जा निलंबित किया

सन्दर्भ-दुनिया की सबसे बड़ी अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक प्रयोगशाला CERN का कहना है कि यह रूस के पर्यवेक्षक की स्थिति को निलंबित कर रहा है और रूस या उसके संस्थानों के साथ किसी भी नए सहयोग को “अगली सूचना तक” रोक रहा है।
कारण है-यूरोपियन ऑर्गनाइजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च, जिसे CERN के नाम से जाना जाता है, ने कहा कि उसके 23 सदस्य देशों – सभी यूरोपीय, साथ ही इज़राइल – ने यूक्रेन पर रूस के आक्रमण की निंदा की।
प्रमुख तथ्य-:यूक्रेन सात सहयोगी सदस्य देशों में से एक है,और रूस,जैसे संयुक्त राज्य अमेरिका,जापान और यूरोपीय संघ को पर्यवेक्षक का दर्जा प्राप्त है।
:CERN परिषद ने 8 मार्च 2022 को एक विशेष बैठक में रूस के बारे में निर्णय लिया और “CERN के रूसी वैज्ञानिक समुदाय के कई सदस्यों को अपना समर्थन व्यक्त किया जो इस आक्रमण को अस्वीकार करते हैं।
:CERN दुनिया के सबसे बड़े कण गतिवर्धक,लार्ज हैड्रॉन कोलाइडर का घर है।
:CERN की शुरुआत 1950 के दशक में यूरोपियन ऑर्गनाइजेशन फॉर न्यूक्लियर रिसर्च के रूप में हुई थी,जिसे आज कण भौतिकी के लिए यूरोपीय प्रयोगशाला के रूप में भी जाना जाता है।
:यह दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित शोध केंद्रों में से एक है,जिसका मुख्य काम मौलिक भौतिकी है -यह पता लगाना कि हमारा ब्रह्मांड क्या काम करता है,यह कहाँ से आया है और कहाँ जा रहा है।
:CERN में,दुनिया की कुछ सबसे बड़ी और सबसे जटिल मशीनों का उपयोग प्रकृति के सबसे छोटे बिल्डिंग ब्लॉक्स,मौलिक कणों का अध्ययन करने के लिए किया जाता है।
:भौतिक विज्ञानी पदार्थ के इन सूक्ष्म कणों से टकराकर प्रकृति के मूल नियमों को उजागर करते हैं।
:CERN में 23 सदस्य है,भारत भी 2002 में पर्यवेक्षक सदस्य का दर्जा प्राप्त किया था,जबकि भारत 1960 से ही इसमें अपना योगदान देते आ रहा है।


शेयर करें

Leave a Comment