शिक्षा मंत्री ने “पढ़े भारत” अभियान का शुभारंभ किया

शेयर करें

“पढ़े भारत” अभियान का शुभारंभ

सन्दर्भ– शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 100 दिनों की पढाई अभियान “पढ़े भारत”का शुभारम्भ किया।
उद्देश्य-इसका उद्देश्य बच्चों,शिक्षकों,माता-पिता,समाज,शैक्षणिक संस्थानों आदि सहित राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर सभी हितधारकों की भागीदारी को बढ़ाना है।
प्रमुख तथ्य-उन्होंने “युवा मित्रों” से अपनी पठन सूची भी साझा करने का आह्वान किया।
:इस 100 दिवसीय पठन अभियान का शुभारम्भ राष्ट्रीय शिक्षा नीति(NEP) 2020 के अनुरूप ही किया गया है,जो स्थानीय/मातृभाषा/क्षेत्रीय/जनजातीय भाषा में बच्चो के लिए उम्र के अनुसार पठन पुस्तकों की उपलब्धता सुनिश्चित करके बच्चों के लिए आनंदपूर्वक पठन संस्कृति को बढ़ावा देने पर जोर देता है।
:पढ़े भारत अभियान में बालवाटिका से कक्षा-8 तक पढ़ने वाले बच्चों पर ध्यान केंद्रित किया जायेगा।
:पठन अभियान 1 जनवरी 2022 से 10 अप्रैल 2022 तक 100 दिनों(14 सप्ताह) के लिए आयोजित किया जा रहा है।
:काम उम्र में पढ़ने की आदत को विकसित करने से मस्तिष्क के विकास में मदद करती है और कल्पना शक्ति को भी बढाती है।
:छात्र आनंद के लिए पढ़े और अपनी कौशल को एक ऐसी प्रक्रिया के माध्यम से विकसित करें जो आनंददायक और स्थायी हो और जो जीवन भर उनके साथ रहे।
:पठन सूची के तहत 5 पुस्तकों को साझा करने को कहा गया है जिन्हे उन्होंने पढ़ने के लिए चुना है।
:प्रति समूह प्रति सप्ताह एक गतिविधि को पढ़ने को मनोरंजक बनाने और पढ़ने की ख़ुशी के साथ आजीवन जुड़ाव बनाने पर ध्यान देने के साथ तैयार किया गया है।
:इस अभियान को बुनियादी साक्षरता और संख्या ज्ञान मिशन के दृष्टिकोण और लक्ष्यों के साथ भी जोड़ा गया है।
:21 फ़रवरी को मनाये जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस को इस अभियान के साथ जोड़ा गया है,इस दिन बच्चों को उनकी मातृभाषा/स्थानीय भाषा में पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करके देश भर में “कहानी पढ़ो अपनी भाषा में”की गतिविधि के साथ मनाया जायेगा जिससे स्थानीय भाषा और संस्कृति को बढ़ावा मिलेगा।


शेयर करें

Leave a Comment