शिक्षा मंत्रालय ने जारी की जिला निष्पादन ग्रेडिंग सूचकांक

शेयर करें

Performance Grading Index for Districts (PGI-D)
शिक्षा मंत्रालय ने जारी की जिला निष्पादन ग्रेडिंग सूचकांक

सन्दर्भ:

:शिक्षा मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने आज 2018-19 और 2019-20 के लिए जिला निष्पादन ग्रेडिंग सूचकांक (PGI-D-Performance Grading Index) जारी किया।

इसका उद्देश्य है:

:जिलों को स्कूली शिक्षा में हस्तक्षेप के लिए प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में मदद करना है और इस प्रकार उच्चतम ग्रेड तक पहुंच में सुधार करना।

प्रमुख तथ्य:

:यह व्यापक विश्लेषण के लिए एक इंडेक्स बनाकर जिला स्तर पर स्कूल शिक्षा प्रणाली के निष्पादन का आकलन करता है।
:स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने राज्यों के लिए निष्पादन ग्रेडिंग सूचकांक (PGI) तैयार किया और संदर्भ वर्ष 2017-18 से 2019-20 के लिए रिपोर्ट जारी की।
:राज्य पीजीआई की सफलता के आधार पर, जिले के लिए 83-संकेतक के आधार पर पीजीआई (पीजीआई-डी) को स्कूली शिक्षा में सभी जिलों के निष्पादन को ग्रेड प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है।
:ऐसी संभावना है कि पीजीआई-डी से राज्य के शिक्षा विभागों को जिला स्तर पर कमियों की पहचान करने और विकेन्द्रीकृत तरीके से उनके निष्पादन में सुधार करने में मदद मिलेगी।
:संकेतक-वार पीजीआई स्कोर उन क्षेत्रों को दर्शाता है जहां एक जिले को सुधार की जरूरत है।
:पीजीआई-डी सभी जिलों के सापेक्ष निष्पादन को एक समान पैमाने पर प्रदर्शित करेगा,जो उन्हें बेहतर निष्पादन करने के लिए प्रोत्साहित करता है।
:पीजीआई-डी संरचना में 83 संकेतकों में 600 अंकों की कुल भार आयु शामिल है, जिन्हें 6 श्रेणियों के तहत समूहों में रखा गया है।
:इन श्रेणियों को आगे 12 डोमेन में विभाजित किया गया है।
:पीजीआई-डी में जिलों को दस ग्रेडों में विभाजित किया गया है,
1-दक्ष:90% से अधिक अंक प्राप्त करने वाले जिलों को।
2-आकांक्षा -3:निम्नतम ग्रेड जो कुल अंकों के 10% तक के स्कोर तक प्राप्त वाले जिलों को।


शेयर करें

Leave a Comment