Mon. Apr 15th, 2024
विक्रमादित्य वैदिक घड़ीविक्रमादित्य वैदिक घड़ी
शेयर करें

सन्दर्भ:

: भारतीय ‘पंचांग’ गणना पर आधारित दुनिया की पहली वैदिक घड़ी, ‘विक्रमादित्य वैदिक घड़ी’ (Vikramaditya Vedic Clock) का उद्घाटन मध्य प्रदेश के उज्जैन में जंतर मंतर पर किया गया।

विक्रमादित्य वैदिक घड़ी के बारें में:

: यह प्राचीन भारतीय खगोलीय गणनाओं पर आधारित एक टाइमकीपिंग उपकरण है, विशेष रूप से वैदिक ग्रंथों और पंचांग (हिंदू कैलेंडर) में पाया जाता है।
: इसमें हिंदू ब्रह्मांड विज्ञान और ज्योतिष के अनुरूप, सटीक समय निर्धारित करने के लिए समय मापने के पारंपरिक तरीकों और खगोलीय अवलोकनों को शामिल किया गया है।
: ज्ञात हो कि उज्जैन शून्य मध्याह्न रेखा और कर्क रेखा के साथ संपर्क के सटीक बिंदु पर स्थित है।
: हिंदू खगोलीय मान्यता के अनुसार, उज्जैन को कभी भारत का केंद्रीय मध्याह्न रेखा माना जाता था, जो देश के समय क्षेत्र और समय के अंतर को निर्धारित करता था।
: यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में जंतर मंतर, महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा निर्मित एक खगोलीय वेधशाला है जो भारत के निम्नलिखित शहरों (दिल्ली, मथुरा, वाराणसी, जयपुर, उज्जैन) में स्थित है।

विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
विक्रमादित्य वैदिक घड़ी

शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *