Fri. Dec 2nd, 2022
शेयर करें

पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन
पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन

सन्दर्भ:

: प्रधानमंत्री ने गुजरात के एकता नगर में सभी राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन का शुभारंभ किया।

पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन से जुड़े प्रमुख तथ्य:

: 23 और 24 सितंबर को आयोजित किए जा रहे दो-दिवसीय सम्मेलन में छह विषयगत सत्र होंगे।
: भारत, तेजी से विकसित इकोनॉमी भी है,और जो निरंतर अपनी इकोलॉजी को भी मजबूत कर रहा है।
: प्रधानमंत्री द्वारा सभी पर्यावरण मंत्रियों से आग्रह किया गया कि वे अपने राज्यों में सर्कुलर इकोनॉमी को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा दें।
: हर राज्य में फॉरेस्ट फायर फाइटिंग मैकेनिज्म मजबूत हो, और प्रौद्योगिकी आधारित हो।
: केंद्र और राज्य सरकार दोनों को मिलकर ग्रीन इंडस्ट्रियल इकोनॉमी की ओर बढ़ने की जरुरत है।
: पर्यावरण मंत्रालय की भूमिका एक नियामक के स्थान पर पर्यावरण को प्रोत्साहित करने रूप में अधिक है।
: देश के वन क्षेत्र में वृद्धि हुई है और आर्द्रभूमि का दायरा भी तेजी से बढ़ रहा है।
: पर्यावरण उपायों को बढ़ाने हेतु राज्यों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के साथ-साथ सहयोग भी होना चाहिए।
: जय अनुसंधान के मंत्र का पालन करते हुए राज्यों के विश्वविद्यालयों और प्रयोगशालाओं को पर्यावरण संरक्षण से जुड़े नवाचारों को सर्वोच्च प्राथमिकता देने की जरुरत है।
: विकास तभी तेजी से होगा जब एनवायरमेंट क्लीयरेंस तेजी से मिलेगी।
: 8 वर्ष पूर्व इसमें जहां 600 से ज्यादा दिन लग जाते थे, वहीं आज 75 दिन ही लगते हैं।
: पर्यावरण की रक्षा के लिए पीएम गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान भी एक महत्वपूर्ण उपाय है।
: अब देश का फोकस ग्रीन ग्रोथ पर, और ग्रीन जॉब्स पर है।
: भारत ने साल 2070 तक नेट जीरो का लक्ष्य रखा है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.