Mon. Jan 30th, 2023
शेयर करें

Transport Research Wing-2020 Report-Bharat Me Accidents-MoRTH
भारत में टीआरडब्ल्यू की सड़क दुर्घटनाएं-2020 रिपोर्ट
Photo:Social Media(सांकेतिक)

सन्दर्भ-सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MoRTH) के ट्रांसपोर्ट रिसर्च विंग (TRW) द्वारा तैयारभारत में सड़क दुर्घटनाएं – 2020′ रिपोर्ट जारी।
प्रमुख तथ्य-2018 में 0.46 प्रतिशत की मामूली वृद्धि को छोड़कर 2016 से सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में गिरावट आई है।
:भारत में, 2019 की तुलना में 2020 में सड़क दुर्घटना के मापदंडों में कमी आई है।
:हाल ही में जारी सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2020 में यातायात दुर्घटनाओं में औसतन 18.46% की गिरावट आई है, मौतों में 12.84% की कमी आई है और चोटों में 22.84% की कमी आई है।
:इस रिपोर्ट में उपलब्ध कराए गए डेटा/सूचना को संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग एशिया और प्रशांत द्वारा प्रदान किए गए मानकीकृत स्वरूपों में कैलेंडर वर्ष के आधार पर एकत्रित राज्यों/संघ शासित प्रदेशों के पुलिस विभागों से प्राप्त किया गया है,(UNESCAP) एशिया प्रशांत सड़क दुर्घटना डेटा (APRAD) आधार परियोजना के तहत।
:घातक दुर्घटनाओं की संख्या में गिरावट, यानी दुर्घटनाएं जिनमें कम से कम एक मौत शामिल है।
:2020 में कुल 1, 20,806 घातक दुर्घटनाएं हुईं,जो 2019 के 1, 37,689 के आंकड़े से 12.23 प्रतिशत कम है।
:2018 में 0.46 प्रतिशत की वृद्धि को छोड़कर, 2016 के बाद से यातायात दुर्घटनाओं की संख्या घट रही है।
:2020 में, सड़क दुर्घटना में मरने वालों की कुल संख्या लगातार दूसरे वर्ष गिर गई।
:इसी तरह, 2015 के बाद से घायल लोगों की संख्या में कमी आ रही है। लगातार तीसरे वर्ष, 2020 में अधिकांश घातक यातायात दुर्घटना हताहतों में उत्पादक आयु वर्ग के युवा व्यक्ति होंगे।
:18 से 45 वर्ष के बीच के युवा वयस्कों ने 2020 में पीड़ितों का 69% हिस्सा लिया। 18 से 60 वर्ष की आयु के लोग सभी सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों का 87.4% हैं।
:कैलेंडर वर्ष 2020 के दौरान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (UTS) द्वारा कुल 3,66,138 सड़क दुर्घटनाएं हुई हैं, जिसमें 1,31,714 लोगों की जान गई और 3,48,279 लोग घायल हुए।
:2020 में सड़क दुर्घटनाओं में उल्लेखनीय कमी हासिल करने वाले प्रमुख राज्य केरल,तमिलनाडु,उत्तर प्रदेश,महाराष्ट्र और कर्नाटक हैं।
:2020 में सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों में उल्लेखनीय कमी हासिल करने वाले प्रमुख राज्य तमिलनाडु, गुजरात, उत्तर प्रदेश, राजस्थान और आंध्र प्रदेश हैं।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *