Thu. May 30th, 2024
भारतीय लाल बिच्छू के डंकभारतीय लाल बिच्छू के डंक Photo@PIB
शेयर करें

सन्दर्भ:

: भारतीय लाल बिच्छू के डंक (Indian Red Scorpion Sting) के बेहतर उपचार के लिए विकसित किया गया नया रोगोपचारक फॉमूलेशन (Novel Therapeutic Formulation)

भारतीय लाल बिच्छू के डंक के उपचार से जुड़ा नया फॉर्मूलेशन:

: इसे रोकने हेतु वाणिज्यिक घोड़े के एंटी-बिच्छू एंटीवेनम (ASA), अल्‍फा1-एड्रेनोसेप्टर एगोनिस्ट (AAA) और विटामिन सी की कम खुराक से युक्त एक नया चिकित्सीय दवा फॉर्मूलेशन (टीडीएफ) विकसित किया गया।
: भारतीय लाल बिच्छू (मेसोबुथुस टैमुलस), अपने जानलेवा डंक के कारण, दुनिया के सबसे खतरनाक बिच्छुओं में से एक है।
: एम. टैमुलस विष (MTV) के खिलाफ, नसों के अंदर से दी जाने वाली घोड़े के एंटी-बिच्छू एंटीवेनम (ASA), बिच्छू के डंक के लिए एकमात्र उपलब्ध उपचार है।
: परंपरागत रूप से, अल्‍फा 1- एड्रेनोसेप्टर एगोनिस्ट (AAA), जैसे कि प्राज़ोसिन, का उपयोग अकेले या वाणिज्यिक एएसए के साथ संयोजन में डंक रोगियों के उपचार के लिए भी किया जाता है, हालांकि, यह चिकित्सा कम प्रभावी है और इसकी कुछ सीमाएं हैं।
: नोवेल TDF ने कुशलतापूर्वक भारतीय लाल बिच्छू के जहर को बेअसर कर दिया, रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि, अंग ऊतक क्षति, नेक्रोसिस और विस्टार चूहों में फुफ्फुसीय एडिमा को उत्‍प्रेरित किया, जो वाणिज्यिक एएसए, एएए और विटामिन सी की तुलना में बहुत बेहतर है।
: यह उपचार बिच्छू के डंक के खिलाफ प्रभावी उपचार की बहुत आशा जगाता है और इससे दुनिया भर में लाखों रोगियों की जान बचाई जा सकेगी।
: ज्ञात हो कि दवा की प्रभावकारिता का परीक्षण पहली बार कैनोरहाब्डिस एलिगेंस पर किया गया था, यह एक मुक्त-जीवित निमेटोड मॉडल है, जो कि एक इनविवो पशु मॉडल के विकल्प के रूप में है।
: यह शोध हाल ही में जर्नल टॉक्सिन्स में प्रकाशित हुआ है।
: इस नई दवा के फॉर्मूलेशन पर एक भारतीय पेटेंट भी दायर किया गया है।
: इस अध्‍ययन में निदेशक प्रोफेसर आशीष मुखर्जी, एसोसिएट प्रोफेसर डॉ एमआर खान, आईएएसएसटी से आईपीडीएफ डॉ अपरूप पात्रा, तेजपुर विश्वविद्यालय से डॉ भबाना दास और उपासना पुजारी और एनआईईएलआईटी, गुवाहाटी से डॉ एस महंत शामिल थे।
: इन्होने ही पहली बार प्रमाणित किया कि सी. एलिगेंस, न्यूरोटॉक्सिक बिच्छू के जहर के खिलाफ, दवा के अणुओं की न्यूट्रलाइजेशन क्षमता की जांच के लिए एक अच्छा मॉडल जीव हो सकता है।

रोगोपचारक फॉर्मूलेशन
रोगोपचारक फॉर्मूलेशन@MDPI

शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *