प्लम्बेक्स इंडिया’ प्रदर्शनी में भारत टैप पहल का शुभारंभ 

शेयर करें

PLUMBEX INDIA-BHARAT TAP PAHAL
प्लम्बेक्स इंडिया’ प्रदर्शनी में भारत टैप पहल का शुभारंभ
Photo:PIB

सन्दर्भ-आवास और शहरी कार्य तथा पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी ने आज नई दिल्ली में ‘प्लम्बेक्स इंडिया (Plumbex India)’ प्रदर्शनी में भारत टैप (Bharat Tap) पहल का शुभारंभ किया।

प्रमुख तथ्य-यह प्रदर्शनी का आयोजन नल से संबंधी उपकरणों,पानी और स्वच्छता उद्योग से संबंधित उत्पादों और सेवाओं के प्रदर्शन के लिए किया गया है।
:यह प्रदर्शनी राष्ट्र के विकास में जल और स्वच्छता की एक आधारभूत सेवा प्रदान करने में सहयोग करती है।
:अटल मिशन फॉर रिजुवेनेशन एंड ट्रांसफॉर्मेशन (AMRUT) की भी अवधारणा प्रधानमंत्री द्वारा किया गया जो अब 60 प्रतिशत शहरी आबादी के लिए सुरक्षित पानी और गंदे पानी की निकासी की व्यवस्था करती है।
:अब भारत,ग्रामीण क्षेत्रों में 38 प्रतिशत शौचालय से 100 प्रतिशत शौचालय कवरेज तक पहुंच गया है।
:इसके अलावा शहरी क्षेत्रों में 73.32 लाख घरेलू और सामुदायिक शौचालयों का निर्माण किया गया है।
:अमृत मिशन ने शहरी भारत में 127 लाख घरेलू नल कनेक्शन और 95 लाख सीवर कनेक्शन प्रदान किए हैं।
:अगला लक्ष्य देश के पूर्ण शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) को शामिल किया जाना है,जबकि अमृत शहरों में पानी और स्वच्छता सेवाओं का सुदृढ़णीकरण जारी है।
:यह अमृत 2.0 का आधार था, जिसे 1 अक्टूबर 2021 को प्रधानमंत्री द्वारा शुरू किया गया था।
:अमृत 2.0 मिशन,2.68 करोड़ नल कनेक्शनों के माध्यम से लगभग 4,700 शहरी स्थानीय निकायों में सभी घरों में पानी की आपूर्ति का 100% कवरेज प्रदान करेगा और 2.64 करोड़ सीवर कनेक्शन के माध्यम से 500 शहरों में सीवरेज और सेप्टेज की 100% कवरेज प्रदान करेगा।
:राज्य सरकारें राज्य जल कार्य योजनाओं के माध्यम से परियोजनाओं को प्रस्तावित करने की प्रक्रिया में हैं।
:भारत टैप पहल से कम प्रवाह वाले सेनेटरी-वेयर बड़े पैमाने पर उपलब्ध होंगे और इस तरह स्रोत पर पानी की खपत में काफी कमी आएगी।
:इस हेतु प्लम्बिंग उद्योग देश में स्वच्छता और अन्य बुनियादी सेवाओं के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए व्यावसायिक अवसरों का लाभ उठा रहा है।
:इस पहल को देश में जल्दी से स्वीकार किया जाएगा और जल संरक्षण के प्रयास पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित किया जाएगा।
:नारेडको माही की ‘निर्मल जल प्रयास’ पहल की भी शुरूआत की जो प्रति वर्ष 500 करोड़ लीटर पानी की बचत के लिए काम करेगी।


शेयर करें

Leave a Comment