Sun. Mar 26th, 2023
पेरिस क्लब
शेयर करें

सन्दर्भ:

: पेरिस क्लब, लेनदार देशों का एक अनौपचारिक समूह, श्रीलंका के ऋण पर अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष को वित्तीय आश्वासन प्रदान करेगा।

पेरिस क्लब के बारे में:

: पेरिस क्लब प्रमुख लेनदार देशों के अधिकारियों का एक समूह है, जिनकी भूमिका ऋणी देशों द्वारा अनुभव की जाने वाली भुगतान कठिनाइयों के लिए समन्वित और स्थायी समाधान खोजने की है।
: इसकी स्थापना 1956, हुआ, जिसका मुख्यालय पेरिस, फ्रांस में है।
: इसका उद्देश्य है उन देशों के लिए स्थायी ऋण-राहत समाधान खोजना जो अपने द्विपक्षीय ऋण चुकाने में असमर्थ हैं।
: इसमें कुल 22 स्थायी सदस्य (सभी ओईसीडी के सदस्य हैं)
: भारत और चीन सदस्य नहीं हैं।
: भारत एक तदर्थ भागीदार के रूप में कार्य करता है।

ऋण समझौतों में कैसे शामिल रहा है पेरिस क्लब:

: शुरुआत से लेकर अब तक पेरिस क्लब 102 अलग-अलग कर्जदार देशों के साथ 478 समझौते कर चुका है।
: 1956 के बाद से, पेरिस क्लब समझौतों के ढांचे के तहत 614 बिलियन डॉलर का कर्ज चुकाया गया है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *