Mon. Dec 5th, 2022
नेटवर्क रेडीनेस सूचकांक- 2022
शेयर करें

सन्दर्भ:

: भारत ने हाल ही में जारी नेटवर्क रेडीनेस सूचकांक- 2022 (NRI 2022) की रिपोर्ट के अनुसार छह स्लॉट में अपनी स्थिति में सुधार किया है।

नेटवर्क रेडीनेस सूचकांक- 2022 के बारें में:

: इस रिपोर्ट को वाशिंगटन डीसी स्थित पोर्टुलांस इंस्टीट्यूट ने तैयार किया है, जो एक स्वतंत्र गैर-लाभकारी, गैर-पक्षपाती अनुसंधान और शैक्षणिक संस्थान है।
: भारत इस सूचकांक में 61वें स्थान पर है।
: 2022 के अपने नवीनतम संस्करण में एनआरआई रिपोर्ट चार अलग-अलग मानकों पर उनके प्रदर्शन के आधार पर 131 अर्थव्यवस्थाओं के नेटवर्क-आधारित रेडीनेस परिदृश्य का मापन करती है।
: ये मानक हैं – प्रौद्योगिकी, लोग, शासन और कुल 58 वेरिएबल को कवर करने वाले प्रभाव।
: भारत ने न केवल अपनी रैंकिंग में सुधार किया है, बल्कि 2021 के अपने स्कोर को 49.74 से सुधार कर 2022 में 51.19 कर लिया है।
: वैसे भारत कई संकेतकों में सबसे आगे है।
: इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत ने “एआई (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) प्रतिभा एकाग्रता” में पहला स्थान, “देश के भीतर मोबाइल ब्रॉडबैंड इंटरनेट ट्रैफिक” व “अंतरराष्ट्रीय इंटरनेट बैंडविड्थ” में दूसरा स्थान और “दूरसंचार सेवाओं में वार्षिक निवेश” व “घरेलू बाजार आकार” में तीसरा स्थान, “आईसीटी सेवा निर्यात” में चौथा स्थान और “एफटीटीएच/बिल्डिंग इंटरनेट सब्सक्रिप्शन” व “एआई वैज्ञानिक प्रकाशन” में पांचवा स्थान प्राप्त किया है।
: NRI- 2022 की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के पास अपने आय स्तर को देखते हुए उम्मीद से कहीं अधिक नेटवर्क रेडीनेस है।
: यूक्रेन (50) और इंडोनेशिया (59) के बाद भारत निम्न-मध्यम-आय वाले देशों के समूह में 36 में से तीसरे स्थान पर है।
: सभी आधारों और उप-आधारों में भारत का अंक इस आय समूह के औसत अंक से अधिक है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.