Mon. Jan 30th, 2023
शेयर करें

NITI AAYOG DEVELOPMENT INDICATORS
नीति आयोग विकास संकेतक
Photo:Social Media

सन्दर्भ-केंद्रीय मंत्री भागवत कराड ने नीति आयोग (NITI AYOG) द्वारा निर्धारित पांच विकास संकेतकों (Development Indicators) पर उस्मानाबाद में समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की।
प्रमुख तथ्य- ये संकेतक है शिक्षा,स्वास्थ्य,वित्तीय समावेशन,कृषि और जल संसाधन और बुनियादी ढांचा।
:देश के 112 आकांक्षी जिलों में, उस्मानाबाद शिक्षा में 27वें,स्वास्थ्य में 54वें, वित्तीय समावेशन में 79वें,कृषि और जल संसाधन में 20वें और बुनियादी ढांचे में 91वें स्थान पर है।
:जनवरी 2018 में लॉन्च किया गया,एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स प्रोग्राम (Aspirational Districts Programme) का उद्देश्य देश भर के 112 सबसे कम विकसित जिलों को जल्दी और प्रभावी रूप से बदलना है।
:कार्यक्रम के व्यापक रूप हैं कन्वर्जेंस (केंद्र और राज्य की योजनाओं का),सहयोग (केंद्रीय, राज्य स्तर के ‘प्रभारी’ अधिकारियों और जिला कलेक्टरों का),और मासिक डेल्टा रैंकिंग के माध्यम से जिलों के बीच प्रतिस्पर्धा;सभी एक जन आंदोलन से प्रेरित हैं।
:राज्यों के मुख्य संचालकों के साथ,यह कार्यक्रम प्रत्येक जिले की ताकत पर ध्यान केंद्रित करता है,तत्काल सुधार के लिए कम लटके हुए फलों की पहचान करता है और मासिक आधार पर जिलों की रैंकिंग करके प्रगति को मापता है।
:रैंकिंग 5 व्यापक सामाजिक-आर्थिक विषयों – स्वास्थ्य और पोषण, शिक्षा, कृषि और जल संसाधन, वित्तीय समावेशन और कौशल विकास और बुनियादी ढांचे के तहत 49 प्रमुख प्रदर्शन संकेतक (KPI) में की गई वृद्धिशील प्रगति पर आधारित है।
:आकांक्षी जिलों की डेल्टा-रैंकिंग और सभी जिलों का प्रदर्शन चैंपियंस ऑफ चेंज डैशबोर्ड पर उपलब्ध है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *