Wed. Apr 24th, 2024
ग्रीन वॉयेज2050 प्रोजेक्टग्रीन वॉयेज2050 प्रोजेक्ट
शेयर करें

सन्दर्भ:

: हाल ही में, भारत को अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (IMO) ग्रीन वॉयेज2050 प्रोजेक्ट (Green Voyage2050 Project) के लिए अग्रणी नेतृत्व करने वाले देश के रूप में चुना गया है।

ग्रीन वॉयेज2050 प्रोजेक्ट के बारें में:

: इस परियोजना का समग्र लक्ष्य प्रारंभिक आईएमओ जीएचजी रणनीति के प्रभावी कार्यान्वयन का समर्थन करना है।
: यह विकासशील देशों को जहाजों से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के प्रयासों में सहायता प्रदान करता है।
: प्रारंभिक आईएमओ रणनीति एक स्पष्ट दृष्टि और महत्वाकांक्षा के स्तर निर्धारित करती है, जिनमें से एक 2008 की तुलना में 2050 तक कुल वार्षिक जीएचजी उत्सर्जन को कम से कम 50% कम करना है।
: यह परिकल्पना की गई है कि यह परियोजना MARPOL अनुलग्नक VI अनुपालन को मजबूत करेगी, परिचालन सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने की सुविधा प्रदान करेगी, ऊर्जा-कुशल प्रौद्योगिकियों को बढ़ावा देगी, और कम और शून्य-कार्बन ईंधन के लिए अवसरों का पता लगाएगी।
: ज्ञात हो कि ग्रीनवॉयज2050 प्रोजेक्ट, वर्तमान में अपने पहले चरण में, नॉर्वेजियन जलवायु और पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दिसंबर 2023 (64.5 मिलियन डॉलर) तक की प्रारंभिक अवधि के लिए वित्त पोषित है।

इस परियोजना के प्रमुख घटक है:

: घटक 1 – प्रारंभिक आईएमओ जीएचजी रणनीति के कार्यान्वयन का समर्थन करने के लिए वैश्विक उपकरण विकसित करना।
: घटक 2 – क्षमता निर्माण, नीति और एनएपी विकास।
: घटक 3 – रणनीतिक साझेदारी विकास।
: घटक 4 – प्रौद्योगिकी सहयोग, नवाचार और पायलट प्रदर्शन।

इसमें भागीदार देश है:

: ग्रीन वॉयेज2050 प्रोजेक्ट में भाग लेने वाले देश अजरबैजान, बेलीज, चीन, कुक आइलैंड्स, इक्वाडोर, जॉर्जिया, भारत, केन्या, मलेशिया, सोलोमन द्वीप, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका हैं।
: ये देश या तो न्यू पायलट कंट्री (एनपीसी) या पायनियर पायलट कंट्री (पीपीसी) के रूप में भाग ले रहे हैं।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *