Mon. Jan 30th, 2023
शेयर करें

अन्ना मणि की 104वीं जयंती
अन्ना मणि की 104वीं जयंती
Photo@Google

सन्दर्भ:

:Google ने भारतीय भौतिक विज्ञानी और मौसम विज्ञानी अन्ना मणि की 104वीं जयंती को चिह्नित करने के लिए एक विशेष डूडल समर्पित किया, जिन्होंने मौसम संबंधी उपकरण के क्षेत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

कौन है अन्‍ना मणि:

:जैसा कि इतिहास कहता है,अन्ना मणि, जिनका जन्म 23 अगस्‍त, 1918 में केरल में एक सीरियाई ईसाई परिवार में हुआ था, ने भौतिकी और मौसम विज्ञान के क्षेत्र में कई मूल्यवान योगदान दिए।
:उनके शोध ने भारत के लिए सटीक मौसम पूर्वानुमान करना संभव बनाया और राष्ट्र के लिए अक्षय ऊर्जा का उपयोग करने के लिए आधार तैयार किया।
:अन्ना मणि, जिन्हें “वेदर वुमन ऑफ़ इंडिया (भारत की मौसम महिला)” के रूप में भी जाना जाता है, अपने परिवार में आठ बच्चों में से सातवीं थीं।
:उन्होंने भौतिक विज्ञानी और प्रोफेसर सी वी रमन के अधीन भी काम किया, जो माणिक और हीरे के ऑप्टिकल गुणों पर शोध कर रहे थे।
:1939 में चेन्नई के पी पचैयप्पा कॉलेज से भौतिकी और रसायन विज्ञान में बी.एससी ऑनर्स में स्नातक की उपाधि प्राप्त की, उन्होंने पांच शोध पत्र प्रकाशित किए।
:1945 में, वह भौतिकी में स्नातक की पढ़ाई करने के लिए इंपीरियल कॉलेज, लंदन चली गईं।
:1948 में लंदन से लौटने के बाद, अन्ना मणि पुणे में भारत मौसम विज्ञान विभाग में शामिल हो गईं, जहां वे मौसम संबंधी उपकरणों की व्यवस्था के लिए जिम्मेदार थीं।
:अन्ना मणि बाद में भारत मौसम विज्ञान विभाग के उप महानिदेशक बनी और संयुक्त राष्ट्र विश्व मौसम विज्ञान संगठन में भी कई प्रमुख पदों पर रही।
:1987 में, उन्होंने विज्ञान में उल्लेखनीय योगदान के लिए INSA K. R. रामनाथन पदक जीता।
:अन्ना मणि के नेतृत्‍व में 100 से ज्‍यादा वेदर इंस्‍ट्रूमेंट्स को दुरुस्‍त किया गया। जिसका परिणाम है कि आज भारतीय वैज्ञानिक मौसम की सटीक भविष्‍यवाणी करने के काबिल हैं।
:प्रिया कुरियन ने अन्ना पर किताब लिखा है “Anna’s Extraordinary Experiments with the Weather”


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *