Sat. Mar 2nd, 2024
गुरुवयूर मंदिरगुरुवयूर मंदिर
शेयर करें

सन्दर्भ:

: केरल के दो दिवसीय दौरे पर आए प्रधानमंत्री ने हाल ही में गुरुवयूर के श्रीकृष्ण मंदिर अर्थात गुरुवयूर मंदिर (Guruvayur Temple) में पूजा-अर्चना की।

गुरुवयूर मंदिर के बारें में:

: गुरुवयूर श्री कृष्ण स्वामी मंदिर, जिसे दक्षिण का द्वारका भी कहा जाता है, भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण के युवा रूप को समर्पित है।
: यह केरल के त्रिशूर जिले के छोटे से शहर गुरुवायूर में स्थित है।
: सबसे पुराने मंदिर के रिकॉर्ड 17वीं शताब्दी के हैं, लेकिन अन्य साहित्यिक ग्रंथों और किंवदंतियों से संकेत मिलता है कि मंदिर लगभग 5000 साल पुराना हो सकता है।

गुरुवयूर मंदिर की विशेषताएँ:

: भगवान कृष्ण, या गुरुवायूरप्पन, इस मंदिर के मुख्य देवता हैं।
: यह मंदिर पारंपरिक केरल स्थापत्य शैली में बनाया गया है।
: ऐसा माना जाता है कि केंद्रीय मंदिर का पुनर्निर्माण 1638 ई. में किया गया था।
: नालम्बलम (गर्भगृह के चारों ओर मंदिर की संरचना), बालिक्कल (यज्ञ का पत्थर), और दीपस्तंभम (रोशनी का स्तंभ) जैसी संरचनाएं मंदिर परिसर में स्थित हैं।
: गर्भगृह की दीवार 17वीं सदी के प्राचीन भित्तिचित्रों से सुसज्जित है।
: यहां का एक और प्रसिद्ध दृश्य है द्वजस्तंभम, जो लगभग 70 फीट ऊंचा एक ध्वजदंड है, तथा पूरी तरह से सोने से ढका हुआ है।
: गुरुवयूर मंदिर में सबसे लोकप्रिय प्रसादों में से एक थुलाभरम है, जहां भक्तों को एक विशाल तराजू पर उनके वजन के बराबर केले, चीनी, गुड़ और नारियल से तौला जाता है।
: यह मंदिर बंदी नर एशियाई हाथियों की एक बड़ी आबादी का घर होने के लिए भी जाना जाता है।
: पुन्नाथुर कोट्टा हाथी अभयारण्य, जहां 56 हाथी रहते हैं, मंदिर के बहुत करीब है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *