Mon. Jan 30th, 2023
शेयर करें

केरल में 491 ODF Plus Model गांव
केरल में 491 ODF Plus Model गांव
Photo:PIB

सन्दर्भ:

:केरल में 491 ODF Plus Model गांव हैं, 12 महत्वाकांक्षी और 17 उभरते हुए हैं जिससे राज्य के 14 जिलों के कुल 1578 गांवों (941 ग्राम पंचायतों) से कुल 520 ओडीएफ प्लस गांव हो गए हैं।

ODF Plus Model गांव प्रमुख तथ्य:

:एक ODF Plus Model गांव वह है जो अपनी खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) स्थिति को बनाए रखता है, ठोस और तरल कचरा प्रबंधन सुनिश्चित करता है और साफ दिखाई देता है।
:कुछ और गांवों को ODF Plus Model गांव घोषित करने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए विभिन्न प्रकार के क्षमता निर्माण का कार्य किया जा रहा है।
:आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, राज्य के 780 गांवों में सामुदायिक स्वच्छता परिसर हैं, जिनमें 243 नए निर्माण की प्रक्रिया में हैं, जबकि 622 गांवों को ठोस कचरा प्रबंधन और 510 गांवों को तरल कचरा प्रबंधन से सराबोर हो चुके हैं।
:प्लास्टिक कचरा प्रबंधन भी उच्च है, 115 ब्लॉकों में प्लास्टिक कचरा प्रबंधन इकाइयां हैं (ब्लॉक पंचायतों में 55 इकाइयां, ग्राम पंचायतों में 60 इकाइयां और 904 ग्राम पंचायतों में 904 सामग्री संग्रह सुविधाएं और 32 अन्य स्थापित होने की प्रक्रिया में हैं) इसके अलावा 14 जिलों में 42 गोवर्धन परियोजनाएं भी हैं।
:केरल के 2 जिलों में मल कीचड़ प्रबंधन प्रणाली है, त्रिवेन्‍द्रम जिले में मुत्ताथारा और एर्नाकुलम जिले में ब्रह्मपुरम की मल कीचड़ के सह-शोधन के लिए पहचान की गई है।
:राज्य में 149 तरल कचरा प्रबंधन परियोजनाएं भी हैं, जिसके तहत सोख गड्ढों का निर्माण किया जा रहा है।
:क्षमता को सुदृढ़ करने हेतु राज्य ने 70 सदस्यीय राज्य स्तरीय संसाधन टीम का गठन और अभिविन्‍यास करने के बाद, एक राज्य स्तरीय तकनीकी संसाधन टीम भी बनाई है।
ODF Plus Model गांव घोषित करने का मानदंड:
:एक गांव को ODF Plus Model गांव घोषित करने का मानदंड ठोस और तरल कचरा प्रबंधन के विभिन्न कार्यक्षेत्रों पर हस्तक्षेप पर निर्भर करता है।
:इसके लिए एक गांव को ओडीएफ प्लस घोषित करने की प्रक्रिया में मध्यवर्ती चरणों की शुरुआत निम्न चरणों में होती है-
1-ओडीएफ प्लस-आकांक्षी:
:एक गांव जिसमें सभी घरों में एक चालू शौचालय की सुविधा है; सभी स्कूलों/आंगनवाड़ी केन्‍द्रों/पंचायत घरों में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग शौचालयों के साथ उनकी एक चालू शौचालय तक पहुंच है; और गांव में ठोस कचरा प्रबंधन या तरल कचरा प्रबंधन की व्यवस्था है।
2-ओडीएफ- राइजिंग:
:एक गांव जिसमें सभी घरों में चालू शौचालय की सुविधा है; सभी स्कूलों / आंगनवाड़ी केन्द्रों/पंचायत घरों में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग शौचालयों के साथ उनकी एक चालू शौचालय तक पहुंच है; और गांव में ठोस कचरा प्रबंधन और तरल कचरा प्रबंधन की व्यवस्था है।
3-ओडीएफ- मॉडल:
:एक गाँव जिसमें सभी घरों में एक चालू शौचालय की सुविधा है; सभी स्कूलों/आंगनवाड़ी केन्‍द्रों/पंचायत घरों में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग शौचालयों के साथ उनकी एक चालू शौचालय तक पहुंच है; गाँव के सभी सार्वजनिक स्थानों में न्यूनतम कूड़ा-करकट है, कम से कम ठहरा हुआ अपशिष्ट जल है और सार्वजनिक स्थानों पर कोई प्लास्टिक कचरा एकत्र नहीं है; गांव में ठोस कचरा प्रबंधन और तरल कचरा प्रबंधन की व्यवस्था है।
:साथ ही गांव में ओडीएफ प्लस आईईसी संदेश प्रमुख रूप से दीवार पेंटिंग और होर्डिंग के माध्यम से प्रदर्शित होने चाहिए।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *