Mon. Dec 5th, 2022
शेयर करें

एवीगैस 100 एलएल को शुरू किया गया
एवीगैस 100 एलएल को शुरू किया गया
Photo@PIB

सन्दर्भ:

: पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस व आवास और शहरी कार्य मंत्री श्री हरदीप सिंह पुरी ने एवीगैस 100 एलएल को लांच किया।

महत्त्व क्या है:

: भविष्य में पायलट प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षु विमानों में हवाईअड्डों पर यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी, विमानों व उड़ान प्रशिक्षण अकादमियों (FTO) की संख्या में बढ़ोतरी के साथ एक विकसित विमानन उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए।
: इससे अब सभी उड़ान अकादमियों व अन्य सभी छोटे विमान, जो एवीगैस 100 एलएल का उपयोग करते हैं, स्वदेशी स्रोतों से इसे खरीदने और धनराशि के बचत में सक्षम होंगे।

एवीगैस 100 एलएल के बारें में:

: एवीगैस 100 एलएल पिस्टन इंजन विमान और मानव रहित वाहन के लिए विशेष विमानन ईंधन है।
: यह एक उच्च-ऑक्टेन विमानन ईंधन है
: पहले भारत इस उत्पाद को यूरोपीय देशों से भरी कीमत पर आयात कर रहा था।
: एवीगैस बाजार के मौजूदा 1.92 अरब डॉलर से बढ़कर 2029 तक 2.71 अरब डॉलर होने की संभावना है।
: और भारत जैव ईंधन सम्मिश्रण, हरित हाइड्रोजन और इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देकर आयातित ईंधन पर निर्भरता को अब कम कर रहा हैं।
: आत्मनिर्भर भारत की सोच के तहत इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) एवीगैस 100 ईंधन को शुरू किया है।
: अब इंडियन ऑयल के गुजरात रिफाइनरी में उत्पादित एवीगैस 100 एलएल का घरेलू उत्पादन भारत में उड़ान प्रशिक्षण को और अधिक सस्ता बना देगा।
: विमानन गैसोलीन का प्रमुख ग्रेड यानी एवीगैस 100 एलएल टर्बो चार्ज किए गए रिसीप्रोकेटिंग पिस्टन इंजन विमान में उपयोग के लिए डिजाइन किया गया है।
: इसका विशेष रूप से FTO और रक्षा बलों द्वारा पायलटों के प्रशिक्षण में उपयोग किया जाता है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.