Fri. Jul 12th, 2024
शेयर करें

RASHTRIYA PANCHAYATI RAJ DIWAS-2022
आज मनाया जा रहा है “पंचायती राज दिवस-2022”

सन्दर्भ-हर वर्ष की तरह आज 24 अप्रैल 2022 को भारत मना रहा है अपना 13वां राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस (National Panchayati Raj Day) -2022
प्रमुख तथ्य-पंचायती राज दिवस पर पीएम नरेंद्र मोदी जम्मू कश्मीर के सांबा जिला की ग्राम पंचायत से अपना संबोधन देंगे।
:भारतीय संविधान के अनुच्छेद 40 में पंचायतों का उल्लेख किया गया है।
:पंचायती राज संस्थान भारत में ग्रामीण स्थानीय स्वशासन (Rural Local Self-government) की एक प्रणाली है।
:स्थानीय स्तर पर लोकतंत्र की स्थापना हेतु 73वें संविधान संशोधन अधिनियम,1992 के माध्यम से पंचायती राज संस्थान (Panchayati Raj Institution) को संवैधानिक स्थिति प्रदान की गई।
:पुरे देश में पंचायती राज संस्थानों (PRI) में ई-गवर्नेंस को मज़बूत करने के लिये पंचायती राज मंत्रालय (MoPR) ने एक वेब-आधारित पोर्टल ई-ग्राम स्वराज (e-Gram Swaraj) को लॉन्च किया है।
:पंचायती राज व्यवस्था में त्रिस्तरीय पंचायत का गठन बलवंत राय मेहता समिति के सिफारिशों के तहत किया गया।
:प्रधानमंत्री 322 पुरस्कार प्राप्त करने वाली पंचायतों के बैंक खातों में पुरस्कार राशि का सीधा हस्तांतरण किया जाएगा।
:प्रधानमंत्री स्वामित्व के तहत लाभार्थियों को प्रॉपर्टी कार्ड भी वितरित करेंगे

राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के बारे में:

:पहला राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस वर्ष 2010 में मनाया गया था,तब से भारत में हर साल 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस मनाया जाता है।
:इस अवसर पर पंचायती राज मंत्रालय देश भर में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली पंचायतों/राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को पुरस्कृत करता है।
1-दीन दयाल उपाध्याय पंचायत शक्तीकरण पुरस्कार।
2-नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा पुरस्कार।
3-बाल हितैषी ग्राम पंचायत पुरस्कार।
4-ग्राम पंचायत विकास योजना पुरस्कार।
5-ई-पंचायत पुरस्कार (केवल राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों को दिया गया)।
:ऐरी रमपुरा ग्राम पंचायत और जालौन जिला पंचायत को राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार के लिए चयनित किया गया है।
:राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर होने के साथ-साथ भारत@2047 के बारे में जागरूकता फैलाने और उसके लिए गति तेज करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम के रूप में काम करेगा।
:साथ ही 2030 तक वैश्विक एसडीजी एजेंडा को प्राप्त करने के लिए संस्थागत,व्यक्तिगत,क्रॉस-ऑर्गेन्जाइजेशनल और परिचालन क्षमताओं का निर्माण भी करेगा।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *