वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट-2022 में भारत की स्थिति

शेयर करें

WORLD HAPPINESS DAY-2022
वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट-2022

सन्दर्भ-यूनाइटेड नेशन सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉलूशन नेटवर्क ने “वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट-2022″ के 10वें रिपोर्ट को जारी किया।
प्रमुख तथ्य-:इसे संयुक्त राष्ट्र सतत विकास समाधान नेटवर्क द्वारा 2012 से प्रकाशित किया जा रहा है।
:रिपोर्ट के अनुसार फ़िनलैंड लगातार 5वें वर्ष सबसे खुशहाल देश बना।
:दूसरे स्थान पर-डेनमार्क को पर रखा गया है,तीसरे स्थान पर- आइसलैंड,चौथे स्थान पर-स्विट्जरलैंड और पांचवें स्थान-नीदरलैंड दुनिया के शीर्ष पांच सबसे खुशहाल स्थानों में शामिल हैं।
:इस सूचकांक में शामिल 146 देशों में भारत 136वें स्थान पर रहा।
:पिछले वर्ष भारत 139वें स्थान पर था।
:चीन की रैंकिंग 94 से 83 हो गई है,जबकि पाकिस्तान इस सूचकांक में 121वें स्थान पर है।
:यह रिपोर्ट लोगो की अपनी ख़ुशी के आंकलन के साथ-साथ आर्थिक और सामाजिक आंकड़ों पर आधारित है,इसमें 149 देशों के लोगो को अपनी ख़ुशी का मूल्यांकन करने को कहा गया था।
:रिपोर्ट के अनुसार बुल्गारिया,रोमानिया और सर्बिया परहित/भलाई में सबसे अधिक वृद्धि दर्ज की,इसमें तीन प्रमुख रूप है दान करना,किसी अजनबी की मदद करना,और स्वयसेवा
:सबसे अधिक गिरावट लेबनान,वेनेजुएला और अफगानिस्तान में देखा गया।
:नवीनतम सूची,जिसे 24 फरवरी 2022 को यूक्रेन पर रूसी आक्रमण से पहले संकलित किया गया था, में अफ़ग़ानिस्तान को नाखुश देश के रूप में स्थान दिया गया है,अफगानिस्तान इस सूचकांक में 146वें स्थान पर है।
:रिपोर्ट के अनुसार 22 देशों में चींजे बेहतर हुई है कई एशियाई देशों के रैंकिंग में सुधार हुआ है।
:वर्षों से वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट का सामाजिक समर्थन,एक दूसरे के प्रति उदारता और सरकार में ईमानदारी,भलाई के लिए महत्वपूर्ण सबक रहे हैं।
:लोगो के जीवन से जुड़ी वस्तुओं जैसे जीवन प्रत्याशा,उदारता,सामाजिक समर्थन,प्रति व्यक्ति सकल घरेलु उत्पाद,जीवन के विकल्प बनाने की स्वतंत्रता और भ्रस्टाचार को इस सूचकांक में शामिल किया गया है।


शेयर करें

Leave a Comment