“मिशन वात्सल्य योजना” पर सरकार का दिशा निर्देश

शेयर करें

MISSION VATSALYA
मिशन वात्सल्य योजना पर सरकार का दिशा निर्देश
Photo:MoWCD

सन्दर्भ-महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने मिशन वात्सल्य योजना के लिए दिशानिर्देशों का मसौदा राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को उनके सुझाव लेने के लिए भेजा है।
प्रमुख तथ्य-:मिशन वात्सल्य,मिशन शक्ति और पोषण 2.0 के साथ योजनाओं की नई तिकड़ी में से एक है,जिसका उद्देश्य हर बच्चे के लिए एक स्वस्थ और खुशहाल बचपन हासिल करना है।
:यह बाल संरक्षण सेवाओं और बाल कल्याण सेवाओं पर केंद्रित है।
:यह अनिवार्य रूप से चाइल्ड प्रोटेक्शन सर्विसेज नामक पूर्व-में मौजूद योजना का एक बदला हुआ संस्करण है।
:इसके निम्न अवयव है-इसमें वैधानिक निकाय शामिल होंगे,सेवा वितरण संरचनाएं,संस्थागत देखभाल/सेवाएं,गैर-संस्थागत समुदाय-आधारित देखभाल, आपातकालीन आउटरीच सेवाएं (चाइल्डलाइन या बच्चों के लिए राष्ट्रीय हेल्पलाइन 1098 के माध्यम से),प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण।

मिशन के उद्देश्य-

1-भारत में हर बच्चे के लिए एक स्वस्थ और खुशहाल बचपन सुनिश्चित करना।
2-एसडीजी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए।
3-बच्चों के विकास के लिए एक संवेदनशील,सहायक और समकालिक पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देना।
4-किशोर न्याय अधिनियम 2015 के अधिदेश को पूरा करने में राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों की सहायता करना।
मिशन का कार्यान्वयन-
1-मिशन के तहत,सरकार की योजना निजी क्षेत्र के साथ-साथ स्वयंसेवी समूहों के साथ भागीदारी करने की है,जो कि परित्यक्त या लापता बच्चों जैसे कमजोर बच्चों की सुरक्षा कर सके।
2-इसके लिए एक वात्सल्य पोर्टल विकसित किया जाएगा जो स्वयंसेवकों को पंजीकरण करने की अनुमति देगा ताकि राज्य और जिला प्राधिकरण उन्हें विभिन्न योजनाओं को क्रियान्वित करने में लगा सकें।


शेयर करें

Leave a Comment