मिशन आबाद:सिक्किम से उत्तराखंड सीमा तक पहुंचा

शेयर करें

ROHINGYA -MISSION AABAD
मिशन आबाद

सन्दर्भ-उत्तराखंड से सिक्किम तक भारत से सटे नेपाल सीमा पर मिशन आबाद तेजी से विस्तारित हो रहा है।

क्या है मिशन आबाद-

:सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार ISN, MWL,WSAMY भारत नेपाल सीमा पर समुदाय विशेष को सुनियोजित तरीके से बसा रही है,इस अभियान को “मिशन आबाद” नाम दिया गया है।
:इसके लिए बकायदा फंडिंग की जा रही,नेपाल में ही स्थायी निवास प्रमाण पत्र के साथ भवन निर्माण की छूट दी जा रही है।
:नौकरी और रोजगार के अवसर भी प्रदान किए जा रहे है।
:धर्म से जुड़ी प्रचार सामग्री भी प्रदान की जा रही है।
प्रमुख तथ्य-:भारत से सटे राज्यों में समुदाय विशेष परिवारों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है।
:इसी के तहत भारत और बांग्लादेश के कई शहरों से होते हुए रोहिंग्या करीब 1391 किलोमीटर की यात्रा करके काठमांडू पहुंच गए।
:भारत स्थाई निवासियों से काफी मिल गए है ऐसे में इनकी पहचान कठिन हो चुकी है।
:इन्हे इस्लामी संघ नेपाल काफी मदद कर रहा है,साथ ही मुस्लिम वर्ल्ड लीग और द आर्गेनाईजेशन वर्ल्ड एसेम्बली ऑफ़ मुस्लिम यूथ परोक्ष रूप से सहायता कर रहा है।
:सीमा के पास बांग्लादेशियों को भी सुनियोजित तरीके से बसना इस मिशन की प्रमुख कड़ी है।
:पाकिस्तान खुफियां एजेंसी ISI भारत और नेपाल सीमा पर लश्कर और जैश जैसे आतंकी संगठनो के बेस बनाने की साजिश में लगा हुआ है।
:अब 22 जिलों के तमाम संगठन घुसपैठ के खिलाफ सक्रिय हो चुके है।


शेयर करें

Leave a Comment