Fri. Dec 2nd, 2022
शेयर करें

BHARAT-DENMARK HARIT HYDROGEN
भारत हरित रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करेगा
Photo:PIB

सन्दर्भ-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डेनमार्क के अपने समकक्ष मेटे फ्रेडरिकसेन (Mette Frederiksen) के साथ बातचीत के बाद यह बात कही कि,भारत और डेनमार्क 3 मई 2022 को हरित हाइड्रोजन,नवीकरणीय ऊर्जा और अपशिष्ट जल प्रबंधन पर ध्यान देने के साथ हरित रणनीतिक साझेदारी (Green Strategic Partnership) को और मजबूत करने पर सहमत हुए।
प्रमुख तथ्य-द्विपक्षीय वार्ता के बाद ग्रीन शिपिंग, पशुपालन और डेयरी, जल प्रबंधन, ऊर्जा, सांस्कृतिक आदान-प्रदान जैसे क्षेत्रों को कवर करने वाले कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।
:दोनों प्रधानमंत्रियों ने समग्र और टिकाऊ दृष्टिकोण के माध्यम से वर्तमान और भविष्य की मांग को पूरा करने के लिए सुरक्षित और सुरक्षित पानी के क्षेत्र में मौजूदा सहयोग को गहरा और विस्तारित करने के दोनों देशों के इरादे का स्वागत किया।
:दोनों प्रधानमंत्रियों ने हरित नौवहन पर उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना पर आशय पत्र का स्वागत किया, जो द्विपक्षीय समुद्री सहयोग को और मजबूत करेगा।
:दोनों नेताओं ने अन्य लोगों के बीच डेयरी पर उत्कृष्टता केंद्र स्थापित करने के इरादे की संयुक्त घोषणा द्वारा कृषि पर सहयोग का विस्तार करने पर भी सहमति व्यक्त की।
:भारत और डेनमार्क ने भी रोगाणुरोधी प्रतिरोध के क्षेत्र में अपने निरंतर सहयोग की पुष्टि की।
:भारत ने मिशन पार्टनर के रूप में इंटरनेशनल सेंटर फॉर एंटीमाइक्रोबियल रेसिस्टेंस सॉल्यूशंस (ICARS) में शामिल होने के लिए डेनमार्क के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।
:दोनों पक्षों ने हरित रणनीतिक साझेदारी के माध्यम से आकांक्षाओं की पुष्टि की – महत्वाकांक्षी हरित ऊर्जा संक्रमण के लिए वैश्विक नेतृत्व लेने और ऊर्जा दक्षता और नवीकरणीय ऊर्जा दोनों पर ध्यान केंद्रित करते हुए इसे प्राप्त करने के मार्ग का प्रदर्शन करने के लिए।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.