Fri. Feb 3rd, 2023
शेयर करें

QUAD LEADERS SHIKHAR BAITHAK-JAPAN-TOKYO
प्रधानमंत्री ने क्वाड लीडर्स शिखर बैठक में भाग लिया
Photo:PIB

सन्दर्भ-प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 24 मई 2022 को जापान के टोक्यो में चार देशों के प्रमुखों-क्वाड लीडर्स (Quad Leaders) की शिखर बैठक में भाग लिया।
प्रमुख तथ्य-इस शिखर बैठक में यूएस राष्ट्रपति जो बाइडेन,जापान के प्रधानमंत्री श्री फुमियो किशिदा,और ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री श्री एंथनी अल्बनीस शामिल थे।
:चार देशों के प्रमुखों की यह दूसरी व्यकिगत बैठक थी।
:इससे पूर्व क्वाड की अब तक कुल चार बैठकें आयोजित की जा चुकी हैं।
:पहली वर्चुअल बैठक मार्च, 2021 में, दूसरी बैठक सितंबर, 2021 में वाशिंगटन डीसी में,और तीसरी वर्चुअल बैठक मार्च, 2022 में आयोजित की गयी थी।
:राजनेताओं ने एक स्वतंत्र,खुले और समावेशी भारत-प्रशांत क्षेत्र तथा संप्रभुता,क्षेत्रीय अखंडता और विवादों के शांतिपूर्ण समाधान के सिद्धांतों को बनाए रखने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया।
:प्रधानमंत्री ने शत्रुता की समाप्ति,वार्ता और कूटनीति को फिर से शुरू करने की आवश्यकता पर भारत की सुसंगत व सैद्धांतिक स्थिति पर प्रकाश डाला।
:राजनेताओं ने वर्त्तमान में चल रहे क्वाड सहयोग और भविष्य के प्रति उनके दृष्टिकोण पर भी चर्चा की।
:राजनेताओं ने आतंकवाद का मुकाबला करने की अपनी इच्छा दोहराई,छद्म आतंकवादियों के उपयोग की निंदा की और आतंकवादी समूहों को किसी भी लोजिस्टिक्स,वित्तीय या सैन्य सहायता से इनकार करने के महत्व पर जोर दिया।
:टीकों का वितरण शुरू किया जा सके इसके लिए राजनेताओं ने भारत में बायोलॉजिकल-ई सुविधा की बढ़ी हुई विनिर्माण क्षमता का स्वागत किया और WHO द्वारा EUL अनुमोदन पर शीघ्र फैसला लिए जाने का आह्वान किया।
:नेताओं ने क्वाड वैक्सीन पार्टनरशिप के तहत अप्रैल, 2022 में थाईलैंड और कंबोडिया को भारत द्वारा मेड इन इंडिया टीकों की 525,000 खुराक को उपहार स्वरुप दिए जाने का स्वागत किया।
:एक क्वाड जलवायु परिवर्तन कार्रवाई तथा शमन पैकेज (Q-CHAMP-Quad Climate Change Action and Mitigation Package) की घोषणा;हरित शिपिंग,हरित हाइड्रोजन समेत स्वच्छ ऊर्जा और जलवायु व आपदा सहनीय अवसंरचना की दिशा में प्रयासों को मजबूत करने के लिए की गई थी।
:प्रधानमंत्री ने इस क्षेत्र के देशों को जलवायु वित्त और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के सहयोग से COP26 की प्रतिबद्धताओं के साथ सहायता करने के महत्व को दोहराया।
:महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी आपूर्ति श्रृंखलाओं के सिद्धांतों पर क्वाड का सामान्य वक्तव्य शुरू किया गया।
:चारों देश, क्षेत्र की महत्वपूर्ण साइबर सुरक्षा अवसंरचना को मजबूत करने के लिए भारत-प्रशांत क्षेत्र में क्षमता निर्माण कार्यक्रमों का समन्वय करेंगे।
:प्रधानमंत्री ने विश्वसनीय वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला बनाने के लिए क्वाड के अधिक से अधिक सहयोग का आह्वान किया और भारत में सेमीकंडक्टर इकोसिस्टम बनाने के लिए देश में अपनायी जा रही अवसंरचना पर चर्चा की।
:भारत-प्रशांत क्षेत्र में आपदाओं के खिलाफ अधिक प्रभावी और समय पर जबावी प्रतिक्रिया को सक्षम करने के लिए राजनेताओं द्वारा मानवीय सहायता और आपदा राहत (HADR -Humanitarian Assistance and Disaster Relief) पर एक क्वाड पार्टनरशिप की घोषणा की गई।
:क्वाड उपग्रह डेटा पोर्टल के माध्यम से क्षेत्र के देशों को पृथ्वी पर्यवेक्षण डेटा के लिए संसाधन उपलब्ध कराने पर सहमति व्यक्त की।
:इससे जलवायु से जुड़ी घटनाओं,आपदा की तैयारी और समुद्री संसाधनों के सतत उपयोग की निगरानी में मदद की जा सकेगी।
:क्वाड लीडर्स ने एक नई, भारत-प्रशांत समुद्री क्षेत्र जागरूकता पहल का स्वागत किया,जिससे देशों को HADR घटनाओं का जवाब देने और अवैध मछली पकड़ने से निपटने से जुड़ी क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी।
:राजनेताओं ने आसियान (ASEAN) की एकता और केंद्रीयता के लिए अपने अटूट समर्थन की पुष्टि की।
:अगली शिखर बैठक 2023 में ऑस्ट्रेलिया द्वारा आयोजित की जाएगी।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *