तरल गतिकी में एक नया प्रायोगिक ढांचा विकसित किया गया

शेयर करें

BHUKAMP KI CHETAWANI KI NAYI PRANALI KA VIKAS
तरल गतिकी में एक नया प्रायोगिक ढांचा विकसित किया गया
Photo:PIB

सन्दर्भ-वैज्ञानिकों ने तरल गतिकी में एक नया प्रायोगिक ढांचा विकसित किया (Novel experimental framework in fluid dynamics) है, जो ठोस अनाज को एक साधारण तरल में महत्वपूर्ण अनुपात में मिलाकर बनने वाले अव्यवस्थित नरम ठोस पदार्थों में डीफॉर्मेशन को डिस्क्राइब करता है।
प्रमुख तथ्य-इससे भूस्खलन/भूकंप जैसी विनाशकारी घटनाओं के कारण होने वाली क्षति को कम करने के लिए प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली विकसित करने में मदद मिल सकती है।
: सामग्री प्रसंस्करण उद्योगों में ग्रैन्यलर सिस्टम हमारे चारों ओर मौजूद हैं,जो बड़ी दूरी पर पाइपलाइनों के माध्यम से बहने वाले सूखे अनाज और गारे तथा भूकंप व भूस्खलन जैसी विनाशकारी प्राकृतिक घटनाओं से डील करते हैं।
:इन प्रणालियों में अनाज शामिल होते हैं जो अनिवार्य रूप से चावल के दानों के समान होते हैं।
:चावल के इन दानों को कंटेनर को हिलाकर बेहतर तरीके से कंटेनर में पैक किया जा सकता है।
:झटकों से आने वाली ताकतें अनाज को धीरे-धीरे उस स्तर तक अधिक सघन बनाती हैं, जब तक कि यह संघनन की एक महत्वपूर्ण डिग्री तक नहीं पहुंच जाता।
:खास बात यह है कि इस तरह के महत्वपूर्ण संघनन अंतर-कण घर्षण, कणों के आकार, चिपचिपापन आदि से आने वाले अनाज के बीच पारस्परिक क्रिया के बारे में जानकारी को एन्कोड करते हैं।
:विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के एक स्वायत्त संस्थान रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं के एक समूह ने एक नया प्रायोगिक ढांचा प्रस्तावित किया है।
:शोधकर्ताओं ने डीप सस्पेन्शन को समझने के लिए चावल के दानों के संघनन से प्रेरित अवधारणा का उपयोग किया है और सर्फेक्टेंट (जो अनिवार्य रूप से साबुन के अणु हैं) का उपयोग करके अंतर-कण अंतःक्रियाओं को ट्यून करके इस विचार की पुष्टि की है।


शेयर करें

Leave a Comment