डेली करेंट अफेयर्स संग्रह-30 नवंबर 2021-2022

शेयर करें

1-दिल्ली सरकार ने लांच किया बिज़नेस ब्लास्टर्स प्रोजेक्ट

सन्दर्भ- सरकारी स्कूलों में पड़ने वाले छात्रों के लिए दिल्ली सरकार ने इस ड्रीम प्रोजेक्ट को लांच किया।
उद्देश्य- छात्रों को बिज़नेस आइडियाज बनाने में सक्षम बनाना।
प्रमुख तथ्य-:बिज़नेस ब्लास्टर्स विद्यार्थियों के लिए बिज़नेस आइडियाज का लांच पैड है।
:यह दुनिया का सबसे बड़ा स्टॉर्टअप प्रोग्राम है जो शिक्षा क्रांति का महत्वपूर्ण हिस्सा है।
:इस प्रोग्राम के तहत कक्षा 11वीं और 12वीं के छत्रों ने उद्योगपतियों के सामने अपने आइडियाज रखे जिनसे इन्हे निवेश भी मिला।
:तीन छात्रों को स्टार्टअप के लिए क्रमशः80 हजार,60 हज़ार और 50 हज़ार रुपये की मदद मिलीं।
:अब प्रत्येक रविवार को विद्यार्थी उद्यमियों के सामने अपने आइडियाज रखेंगे जिनका पुरे देश में शाम के 7 बजे प्रसारण होगा।
:इस प्रोग्राम के लिए 3 लाख बच्चो के 51 हज़ार से अधिक आइडियाज और 60 करोड़ रुपये की सीड मनी रखी गयी है।
:इस प्रोग्राम से भारत के अर्तव्यवस्था को मजबूती देने तथा विकसित करने में सहायक होगा। 

2-उत्तर प्रदेश हिंदी साहित्य द्वारा साहित्यकारों को सम्मान

प्रमुख तथ्य- सभी साहित्यकारों को विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित द्वारा सम्मानित किया गया।
आठ लाख रूपये के भारत भारती सम्मान-2020 से सम्मनित हुए अमृतसर के साहित्यकार डॉ.पाण्डेय शशिभूषण शीतांशु।
:लोहिया सम्मान लखनऊ के डॉ. रामकठिन सिंह को मिला।
:महात्मा गांधी साहित्य सम्मान बिहार के मुजफ्फरपुर के डॉ. महेंद्र मधुकर को दिया गया।
:हिंदी गौरव सम्मान गाजियाबाद के भगवान सिंह को दिया गया।
;पंडित दीनदया उपाध्याय साहित्य सम्मान भोपाल के डॉ. देवेंद्र दीपक को दिया गया।
:अवंतीबाई साहित्य सम्मान नोएडा के डॉ. सीतेश आलोक को दिया गया।
:राजर्षि पुरुषोत्तमदास टंडन सम्मान के लिए अहमदाबाद के गुजरात प्रांतीय राष्ट्रभाषा प्रचार समिति को दिया गया।
:इन सारे सम्मनों से सम्मानित साहित्यकारों को 5-5 लाख रुपये की राशि दी गयी है।
:साहित्य भूषण सम्मान के लिए कुल 20 नाम चुने गए थे-इन सभी सम्मानितों को 2.50-2.50 लाख रुपये की सम्मान राशि दी जाएगी।
:लोक भूषण सम्मान वाराणसी के डॉ. जयप्रकाश मिश्र को दिया गया।
:कला भूषण सम्मान लखनऊ के सुशील कुमार सिंह को दिया गया।
:विद्या भूषण सम्मान गाजियाबाद के गिरीश्वर मिश्र को दिया गया।
:विज्ञान भूषण सम्मान राजस्थान जोधपुर के डॉ. दुर्गादत्त ओझा को दिया गया।
:पत्रकारिता भूषण सम्मान नई दिल्ली के रामबहादुर राय को दिया गया।
:प्रवासी भारतीय हिंदी भूषण सम्मान नीदरलैंड्स के पुष्पिता अवस्थी को दिया गया।
:हिंदी विदेश प्रसार सम्मान सिडनी की रेखा राजवंशी को दिया गया।
:बाल साहित्य भारती सम्मान मुरादाबाद के डॉ. राकेश चक्र और गुरुग्राम के घमंडी लाल अग्रवाल को दिया गया।
:मधुलिमये साहित्य सम्मान अमरकंटक के डॉ. दिलीप सिंह को दिया गया।
:पं. श्रीनारायण चतुर्वेदी साहित्य सम्मान गाजियाबाद के सुभाष चंदर को दिया गया।
:विधि भूषण सम्मान दिल्ली की सन्तोष खन्ना को दिया गया।
:अलग-अलग भाषाओं के लिए दिए जाने वाले सौहार्द सम्मान के लिए कुल 14 नामों का चयन किया गया था जैसे -संस्कृत के लिए प्रो. हरिदत्त शर्मा, प्रयागराज,उर्दू के लिए अनीस अंसारी,लखनऊ,असमिया लिए रुनू शर्मा बरुवा,जोरहाट,असम,गुजराती के लिए डॉ. जशभाई नारणभाई पटेल,गांधीनगर, गुजरात,पंजाबी के लिए राकेश प्रेम (राकेश मेहरा),अमृतसर,पंजाब,तमिल के लिए पी.आर. वासुदेवन ‘शेष’,चेन्नई,मराठी के लिए डॉ. केशव सिंह ‘प्रथमवीर’ पुणे
सभी सम्मानितों को 2.50-2.50 लाख रुपये की सम्मान राशि दी जाएगी।
उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान-इसकी स्थापना 30 दिसंबर 1976 को की गयी थी,जो की एक स्वायत्तशासी संस्था है,यह उत्तर प्रदेश के भाषा विभाग के अधीन है,जिसके पदेन अध्यक्ष मुख्यमंत्री होते है,इसका प्रमुख कार्य हिंदी भाषा के प्रचार प्रसार का काम करती है तथा इससे जुड़े साहित्यकारों को को उनकी अमूल्य कृति और योगदान के लिए सम्मानित करती है।

3-RBI ने बड़े कॉर्पोरेट घरानो को बैंकिंग लाइसेंस देने के प्रस्ताव को टाल दिया

सन्दर्भ-RBI ने बड़े कॉर्पोरेट घरानो को बैंकिंग लाइसेंस देने के अपने आतंरिक कार्य समूह(IWG) के प्रस्ताव को टाल दिया है।
कारण क्या है- आरबीआई का मानना है कि बड़े कॉर्पोरेट के बीच “कनेक्टेड लेंडिंग” और “स्व व्यवहार” पर आशंका है।
किस तर्क पर दिया जा रहा था- आरबीआई मानना था कि ये पूंजी व्यावसायिक अनुभव और प्रबंधकीय क्षमता ला सकते है क्योकि इन्हे बाजार का काफी अनुभव होता है,साथ इन बड़े घरानो के आने से बैंकिंग क्षेत्र में निवेश बढ़ जायेगा।
कनेक्टेड लेंडिंग(जुड़ा उधार) क्या है-जब कॉर्पोरेट घराने के ये बैंक्स आपस में अनुकूल शर्तों पर एक दूसरे को ऋण उपलब्ध करा सकते है,तथा आसानी से उपलब्ध धन के निजी पूल के रूप उपयोग कर सकते।इसे एक ऐसी स्थिति के रूप में तैयार किया जाता है जिसमें बैंक का नियंत्रक मालिक कम ब्याज दरों पर निम्न गुणवत्ता के ऋण स्वयं को या अपने संबंधित को देता है।इससे लोगो का विश्वास बैंकिंग सिस्टम पर कम होने की सम्भावना होती है,जिससे एनपीए बढ़ सकता है।
नुकसान क्या होगा-अगर औद्योगिक घरानों को वित्तपोषण की जरुरत हुई,तो वे इसे आसानी से प्राप्त कर सकते हैं यदि उनके पास एक इन-हाउस बैंक है।
क्या कॉर्पोरेट घराने बैंक में हिस्सा रख सकते है-
आरबीआई का कहना है कि बड़े औद्योगिक घरानो से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से व्यक्तियों या कंपनियों को एक नए निजी क्षेत्र के बैंक की इक्विटी में 10% तक हिस्सा ले सकता है और बैंक में उनका नियंत्रण नहीं होना चाहिए।ऐसे शेयरधारको के पास शेयरधारक समझौतों या अन्यथा के कारण बैंक के बोर्ड में कोई निदेशक नहीं हो सकता।

4-जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप लॉन्च की तारीख बदली गयी

JSWT की लॉन्चिंग टला

सन्दर्भ-नासा ने पुनः जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप(JSWT) के लॉन्च की तारीख को बदल दिया है,जिसकी घोषणा 22 नवंबर को किया गया था।
प्रमुख तथ्य-इस 8 बिलियन डॉलर के टेलीस्कोप को 18 दिसंबर को लांच करना था जिसे अब 22 दिसंबर 2021 को किया जायेगा।
इसके लिए वेधशाला के अतिरिक्त परीक्षण के लिए अनुमति देना आवश्यक है।
यह यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी(ESA) और कनाडाई अंतरिक्ष एजेंसी के आपसी सहयोग के द्वारा बनाया गया है।
यह कम से कम अगले दशक के लिए अंतरिक्ष एजेंसी की प्रीमियर वेधशाला के रूप में कार्य करेगा

JSWT के बारे में -:यह एक बड़ा इन्फ्रारेड टेलीस्कोप है,ब्रह्मांड के इतिहास में “हर चरण” का अध्ययन करेगा,जिसमें बिग बैंग,सौर प्रणालियों का निर्माण शामिल है हमारे अपने सौर के विकास प्रणाली के रहस्यों को सुलझाने में मदद करने के लिए डिजाइन किया गया है। इसे हबल टेलीस्कोप का उत्तराधिकारी भी माना जाता है।
:इसकी लंबी तरंग दैर्ध्य के कारण, यह समय से और पीछे देखने में सक्षम होगा, “शुरुआती ब्रह्मांड में बनने वाली पहली आकाशगंगाओं को खोजने के लिए, और धूल के बादलों के अंदर झांकने के लिए जहां आज तारे और ग्रह प्रणालियां बन रही हैं”।
:यह टेलीस्कोप पृथ्वी से लगभग एक मिलियन मील (1.5 मिलियन किमी) की दूरी की यात्रा करेगा।
:इसे दक्षिण अमेरिका में फ्रेंच गयाना से एरियन 5 ECA रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा।
:इसके चार मुख्य लक्ष्य हैं-:बिग बैंग के बाद बनने वाली पहली आकाशगंगाओं की खोज करना।
:यह निर्धारित करना कि आकाशगंगाएं अपने निर्माण से अब तक कैसे विकसित हुईं।
:पहले चरण से लेकर ग्रहों के सिस्टम के गठन तक सितारों के गठन का निरीक्षण करना।
:और ग्रह प्रणालियों के भौतिक और रासायनिक गुणों को मापना और ऐसी प्रणालियों में जीवन की संभावना की जांच करना।

5-आल इंडिया रेडियो ने लांच किया #AIRNxt पहल 

चर्चा में क्यों है-हाल ही में आल इंडिया रेडियो ने लांच किया #AIRNxt कार्यक्रम को लांच किया,जिसे आज़ादी के अमृत महोत्सव के एक भाग के रूप में मनाया जायेगा।
उद्देश्य-इस पहल का उद्देश्य युवा इंडिया का प्रतिनिधित्व करते हुए युवा प्रतिभा को आगे लाना और उनको बढ़ावा देना।
प्रमुख तथ्य-:यह पहल युवाओं का,युवाओं द्वारा और युवाओं के लिए लक्ष्य पर केंद्रित है।
:इसके अंतर्गत आनेवाले 52 हप्तों तक देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में आकाशवाणी द्वारा इनको अवसर दिए जायेंगे।
:इसके लिए विभिन्न कॉलेजों,विश्विद्यालयों आदि के युवाओं को AIR प्रोग्रामिंग शो में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित और आमंत्रित किया जायेगा।
:इन शोज के जरिए युवाओं को आज़ादी के 75 वर्षों के दौरान देश की उपलब्धियों के बारे में अपने विचार साझा करने का अवसर मिलेगा।
:इसके अलावा वे भारत के भविष्य के मद्देनज़र अपने विचारों व सपनों को भी साझा कर सकेंगे।
:#AIRNxt एक टैलेंट हंट शो की तरह होगा जिसमे अगले एक साल तक देश के कोने कोने से करीब 1000 शिक्षण संस्थानों के लगभग 20000 युवा भाग लेंगे।
:आकशवाणी एक प्रमुख लोक सेवा प्रसारक है जो प्रसार भारती के अधीन काम करता है।

6-चेक गणराज्य के नए प्रधानमंत्री बने पेट्र फियाला

 

सन्दर्भ-हाल ही पेट्र फियाला चेक गणराज्य के नए प्रधान बनाये गए है,ये सिविक डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता है।
प्रमुख तथ्य-:उन्हें देश के राष्ट्रपति मिलोस जेमन ने शपथ दिलाई।
:वो मौजूदा प्रधानमंत्री आंद्रेज बाबीस के खिलाफ जीत दर्ज करने के बाद प्रधानमत्री चुने गए है।
:प्रधानमंत्री ने बधाई देने के साथ ही कहा कि दोनों देशों के आपसी संबंधों को और बढ़ाने के लिए उनके साथ काम करने को लेकर आशान्वित है।
:पेट्र पियाला 5 केंद्र और केंद्र दक्षिणपंथी विपक्षी दलों के एक गुट का नेतृत्व करते हैं।
चेक गणराज्य-यह मध्य यूरोप का एक देश है जिसे चेकिया भी कहा जाता है,यह एक लैंडलॉकेड अर्थात चारो ओर से जमीन ने घिरा हुआ देश है।
:यह संसदीय गणतंत्र देश है जो संसद के द्विसदनात्मक प्रणाली पर काम करता है।
:यह 1 जनवरी 1993 को चेकोस्लोवाकिया से विभाजित होकर बना था।

7-पूर्ण रूप से गणतांत्रिक देश बना बारबाडोस 

चर्चा क्यों है-यूनाइटेड किंगडम के औपनिवेशिक शासन से पूर्णतया मुक्त हो गया बारबाडोस और पूरी तरह से गणतांत्रिक देश बन गया।
प्रमुख तथ्य-:अब इस घोषणा के बाद बारबाडोस ब्रिटिश शासन के लगभग 400 साल बाद ब्रिटैन से अपने शाही सम्बन्ध समाप्त कर देगा।
:अब राज्य का संचालन यहाँ के नव निर्वाचित राष्ट्रपति द्वारा किया जायेगा,इस प्रकार महारानी एलिज़ाबेथ अब राज्य की प्रमुख नहीं रहेंगी।
:अब 72 वर्षीय डेम सैंड्रा मेसन देश की पहली राष्ट्रपति होंगी।
:ये 30 नवंबर को ब्रिटेन से देश की आजादी की 55वीं वर्षगांठ के एक समारोह में पद की शपथ लेंगी,जिसमे प्रिंस चार्ल्स भी भाग लेंगे।
:बारबाडोस को ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता 1966 में ही मिल गयी थी,परन्तु यहाँ अभी भी महारानी एलिज़ाबेथ-2 ही प्रमुख थी।
:इस तरह बारबाडोस दुनिया का सबसे नया गणराज्य बन गया है।
:हालांकि बारबाडोस राष्ट्रमंडल में एक गणतंत्र रूप में बना रहेगा।
:बारबाडोस उत्तरी अमेरिका के कैरिबियन क्षेत्र में स्थित एक घनी आबादी वाला छोटा द्वीपीय देश है जिसकी राजधानी ब्रिजटाउन है।
:कैरिबियन क्षेत्र के कुछ देश बारबाडोस से पूर्व गणतंत्र पर चुके हैं,जिनमे शामिल है-गुयाना 1970 में,त्रिनिदाद और टोबैगो 1976 में,डॉमिनिका 1978 में।

 


शेयर करें

Leave a Comment