डेली करेंटअफेयर्स 20 अक्टूबर 2021

शेयर करें

1- प्रधानमंत्री का 20 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश की यात्रा पर जायेंगे 

प्रमुख तथ्य-1:आज 20 अक्टूबर को कुशीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे. साथ ही महापरिनिर्वाण मंदिर में अभिधर्म दिवस के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में भी भाग लेंगे।

2:कुशीनगर में राजकीय मेडिकल कॉलेज की आधारशिला रखेंगे तथा विभिन्न विकास परियोजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास करेंगे।

3:उद्घाटन के अवसर पर कोलंबो श्रीलंका का विमान हवाई अड्डे पर उतरेगा जिसमें श्रीलंका का एक प्रतिनिधिमंडल भारत की यात्रा पर आएगा 100 से अधिक बौद्ध भिक्षु और गणमान्य व्यक्ति शामिल होंगे इस दल ने 12 सदस्य पवित्र स्मृति चिन्ह दल भी शामिल होगा।

4:प्रधानमंत्री बरवाजंगल के एक सार्वजनिक समारोह में भाग लेंगे।

5:यह मेडिकल कॉलेज 500 बेड वाला अस्पताल होगा और यह शैक्षिक सत्र 2022-2023 में एमबीबीएस पाठ्यक्रम के लिए 100 छात्रों का नामांकन करेगा।

2-गामा रे टेलीस्कोप-

चर्चा में क्यों है- नासा अपने अगले छोटे खगोल भौतिकी मिशन के लिए गामारी टेलीस्कोप विकसित करेगा।

प्रमुख तथ्य-1:यह टेलीस्कोप आकाशगंगा में तारीख जन्म और मृत्यु रासायनिक तत्वों के निर्माण के लिए हां लिया इतिहास का अध्ययन करेगा।

2:इसे कॉम्प्टन स्पेक्ट्रोमीटर एंड इमेजर(COSI)के नाम से भी जाना जाता है जिसका आविष्कार जॉन टॉमसिक ने कैलिफोर्निया (बर्कले) विश्वविद्यालय में किया था।

3:इसे 0.2 से 5 मिलियन इलेक्ट्रॉन वोल्ट तीव्रता की सॉफ्ट गामा रेज़ का पता लगाने के लिए डिजाइन किया गया है।

4:इसे 2025 में लांच किया जाएगा जिसमें कूल लागत 145 मिलियन डॉलर का होगा।

5:यह अंतरिक्ष अनुसंधान के माध्यम से अंतरिक्ष के लिए लगातार कम लागत वाली पहुंच प्रदान करता है।

3-नीति आयोग द्वारा भारत का भू:स्थानिक ऊर्जा मानचित्र लांच-

प्रमुख तथ्य- 1:यह एक भौगोलिक सूचना प्रणाली ऊर्जा मानचित्र है इसरो के सहयोग से ऊर्जा मंत्रालय के साथ लॉन्च किया गया।

2:इसका उद्देश्य कई संगठनों में बिखरे हुए ऊर्जा डाटा को एकत्रित कर इसे समेकित और चित्रात्मक ढंग से प्रस्तुत करना है।

3:योजना बनाने और निवेश से जुड़ी निर्णय लेने में मदद मिलेगी इसके अलावा भारत के ऊर्जा क्षेत्र के वास्तविक समय और एकीकृत योजना को सुनिश्चित करने के लिए भी उपयोग में लाया जाएगा।

4:इसे प्रभावी और उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाने के उद्देश्य से वेब जीआईएस प्रौद्योगिकी और ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया गया है।

5:यह आपदा प्रबंधन में भी सहायक होगा।

इस लिंक पर क्लिक करके देख सकते है —

https://vedas.sac.gov.in/energymap/

4-भारत का पहला वनहेल्थ कंसोर्टियम लॉन्च

प्रमुख तथ्य-1:विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के बायो टेक्नोलॉजी विभाग ने कोविड-19 के बाद पहला वन हेल्थ कंसोर्टियम लॉन्च किया।

2:इस पहल का उद्देश्य देश के उत्तर-पूर्वी हिस्से सहित देश में जूनोटिकऔर ट्रांसबाउंड्री रोगजनक के कारण होने वाले महत्वपूर्ण जीवाणु ,वायरल तथा परजीवी रोगों की निगरानी करना है।

3:वन हेल्थ की अवधारणा पर राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय वक्ताओं ने अपने विचार साझा किए।

4:वन हेल्थ कॉन्सेप्ट मनुष्य, जानवरों,पौधों तथा पर्यावरण सभी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए इन्हें एक-दूसरे के पूरक के रूप में माननी की जरूरत पर जोर देता है।

5:लॉन्चिंग के दौरान विभाग द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वनहेल्थ की अनिवार्यता पर एक अंतरराष्ट्रीय मिनी संगोष्ठी का भी उद्घाटन किया गया।

6:इस कंसोर्टियम में डीबीटी नेशनल इंस्टिट्यूट बायो टेक्नोलॉजी हैदराबाद के नेतृत्व में 27 संगठन शामिल है। इसमेंAIIMSदिल्ली और जोधपुर,IVRI बरैली ,ICR और ICMR जैसे संसथान तथा वन्यजीव एजेंसियां आदि शामिल है।

7:कोविड-19 महामारी ने वनहेल्थ सिद्धांत की प्रासंगिकता को उजागर किया है विशेष रूप से दुनिया भर में जूनोटिक रोगों की रोकथामऔर नियंत्रित करने के प्रयासों के संबंध में इस कॉन्सेप्ट की स्वीकार्यता बढ़ी  है।

8:जूनोटिक रोग एक संक्रामक रोग है प्राकृतिक रूप से यह कशेरुकी जानवरों से मनुष्यों में फैलता है।

5-हेल्थी स्माइल ऐप लांच 

प्रमुख तथ्य -1:हाल ही में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान(AIIMS) दिल्ली में डेंटल हाइजीन ऐप लॉन्च किया है।

2:एम्स के बाल रोग विभाग और प्रीवेंटिव डेंटिस्ट्री विभाग द्वारा विकसित एक द्विभाषी ऐप है।

3:यह एक एजुकेशनल ऐप है जो बच्चों में अच्छी ओरल हेल्थ प्रैक्टिस विकसित करने में मदद करेगा।

4:इस ऐप में कुछ खास विशेषताएं हैं म्यूजिकल2 मिनट ब्रशिंग टाइमर ब्रश करने से संबंधित वीडियो प्रीवेंटिव डेंटल केयर टिप्स गर्भावस्था के दौरान ओरल केयर टिप्स।

5:यह ऐप बचपन से ही अच्छी ओरल हाइजीन की आदतों को विकसित करने में मदद करेगा।

6:ओरल हेल्थ से तात्पर्य दातों मसूड़ों और संपूर्ण मुख और चेहरे की स्वास्थ्य प्रणाली से है,क्योंकि यह संपूर्ण स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता का एक प्रमुख संकेतक है।

7:ग्लोबल बर्डन आफ डिजीज स्टडी 2017 के अनुसार एक संबंधी रोगों से विश्व में 3.5 बिलियन लोग प्रभावित हैं।

6-अमित खरे बने प्रधानमंत्री के सलाहकार

प्रमुख तथ्य-1:पूर्व उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार के रूप मेंअनुबंध आधार पर 2 साल की अवधि के लिए की गई है।

2:ये 1985 बैच के झारखंड कैडर के आईएएस अधिकारी रहे हैं जो 30 सितंबर 2021 को उप शिक्षा सचिव के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं।

3:मई 2018 से दिसंबर 2019 के बीच सूचना और प्रसारण मंत्रालय के सचिव के रूप में भी कार्य किया है।

4:इनकी तत्वधान में ही सूचना प्रौद्योगिकी नियम 2021 जारी किए गए थे 1995 97 के बीच बिहार के पशुपालन विभाग में चारा घोटाले का खुलासा करने में इनकी अहम भूमिका रही है इन्होंने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को आकार देने में भी मदद की है।

7-फ्लावर स्कॉर्पियनफिश

प्रमुख तथ्य-1:हाल ही में हिंद महासागर में फ्लावर स्कॉर्पियनफिश नामक मछली की प्रजाति खोजी गई है जो पहले केवल प्रशांत महासागर में पाई जाती थी।

2:इसे लगभग एक सदी पहले वर्ष 1929 में जापान से दूर प्रशांत महासागर में खोजा गया था।

3:यह रे-फिनिश मछली के क्रम से जुड़ी हुई है जिसे स्कॉर्पेनी नाम से भी जाना जाता है,इस परिवार की मछलियां समुद्र के सबसे जहरीले जानवरों में से है।

4: इन प्रजातियों की लम्बाई 75-127 मिमी और चौड़ाई 14-22 मिमी होती है।

8-क्या भारत बना रहा है नया क्वाड समूह 

प्रमुख तथ्य- 1:अब्राहम समझौते के आधार पर भारत अमेरिका संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रियों की बैठक का आयोजन कर रहे हैं जिसे क्वॉड समूह के रूप में देखा जा रहा है,हालांकि इसे अभी अंतर्राष्ट्रीय  फोरम के रूप में ही बताया गया है।

2:यह बैठक मध्य एशिया में अपना सहयोग एवं आर्थिक साझेदारी बढ़ाने के लिए हो रही है।

3:इस बैठक में भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर,अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन,इजरायल के विदेश मंत्री यायर लॉपिड,तथा यूएई की विदेश मंत्री शेख अब्दुल्लाह बिन जायद अल नाहयान ने भाग लिया।

4:इन चारों देशों की एक मंच पर पहली बार वर्चुअल बैठक हो रही है,इसके माध्यम से बुनियादी ढांचा,डिजिटल बुनियादी ढांचा,परिवहन,सामुद्रिकसुरक्षा व दूसरे क्षेत्रों में एक साथ काम किया जा सकेगा।

अब्राहम समझौता क्या है- यह अमेरिका,इजरायल,और संयुक्त अरब अमीरात के बीज एक साझा बयान है जिसपर 13 अगस्त और 2020 को हस्ताक्षर किए गए थे इसका इस्तेमाल इजराइल और यूएई और इजरायल और बहरीन की बीच सामूहिक रूप से सामान्यीकरण समझौते को संदर्भित करने के लिए किया गया था।

 


शेयर करें

Leave a Comment