गूगल ने सत्येंद्र नाथ बोस पर डूडल (Doodle) बनाया

शेयर करें

Satyendra Nath Bose Par Google Ne Doodle Bnaya
गूगल ने सत्येंद्र नाथ बोस पर डूडल बनाया
Photo: Google

सन्दर्भ-भारतीय भौतिक विज्ञानी और गणितज्ञ सत्येंद्र नाथ बोस और बोस-आइंस्टीन कंडेनसेट (Bose-Einstein Condensate) में उनके योगदान को गूगल,डूडल बनाकर मना रहा है।
प्रमुख तथ्य-04 जून 1924 में जन्मे बोस ने अपने क्वांटम फॉर्मूलेशन (Quantum Formulations) अल्बर्ट आइंस्टीन (Albert Einstein) को भेजे,जिन्होंने इसे क्वांटम यांत्रिकी में एक महत्वपूर्ण खोज के रूप में मान्यता दी।
:शिक्षा के क्षेत्र में सत्येंद्र नाथ बोस की प्रसिद्धि का सफर शुरू हुआ।
:15 साल की उम्र में, बोस ने कलकत्ता के प्रेसीडेंसी कॉलेज में विज्ञान स्नातक की डिग्री हासिल करना शुरू कर दिया और इसके तुरंत बाद कलकत्ता विश्वविद्यालय में अनुप्रयुक्त गणित में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की।
:दोनों डिग्रियों में अपनी कक्षा में शीर्ष पर रहते हुए, उन्होंने शिक्षा जगत में अपनी प्रतिष्ठित स्थिति को मजबूत किया।
:बचपन से ही उनके पिता,जो एक एकाउंटेंट थे,काम पर जाने से पहले उन्हें हल करने के लिए एक अंकगणितीय समस्या लिखते थे,जिससे बोस की गणित में रुचि खत्म हो जाती थी।
:1917 तक बोस ने भौतिकी पर व्याख्यान देना शुरू किया,स्नातकोत्तर छात्रों को प्लैंक विकिरण सूत्र पढ़ाते समय,बोस ने कणों की गणना के तरीके पर सवाल उठाया था और अपने सिद्धांतों के साथ प्रयोग करना शुरू कर दिया था।
:उन्होंने प्लैंक लॉ एंड द हाइपोथिसिस ऑफ लाइट क्वांटा नामक एक रिपोर्ट में अपने निष्कर्षों का दस्तावेजीकरण किया, और इसे द फिलॉसॉफिकल मैगज़ीन नामक एक प्रमुख विज्ञान पत्रिका को भेजा था।
:जब उनका शोध अस्वीकार कर दिया गया,तो उन्होंने अल्बर्ट आइंस्टीन को अपना पेपर मेल करने का फैसला किया।
:आइंस्टीन ने खोज के महत्व को पहचाना – और जल्द ही बोस के सूत्र को व्यापक घटनाओं पर लागू किया।
:बोस का सैद्धांतिक पेपर क्वांटम सिद्धांत में सबसे महत्वपूर्ण निष्कर्षों में से एक बन गया।
:भारत सरकार ने बोस को देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण से सम्मानित करके भौतिकी में उनके जबरदस्त योगदान को मान्यता दी।
:उन्हें विद्वानों के लिए भारत में सर्वोच्च सम्मान,राष्ट्रीय प्रोफेसर के रूप में भी नियुक्त किया गया था।
:बोस ने भारतीय भौतिक समाज, राष्ट्रीय विज्ञान संस्थान, भारतीय विज्ञान कांग्रेस और भारतीय सांख्यिकी संस्थान सहित कई वैज्ञानिक संस्थानों के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
:वह वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद के सलाहकार भी थे,और बाद में रॉयल सोसाइटी के फेलो बन गए।


शेयर करें

Leave a Comment