गंगा के दो हिस्सों की जल गुणवत्ता में सुधार

शेयर करें

river ganga ke bod me sudhar
गंगा की जल गुणवत्ता में सुधार

सन्दर्भ-बिहार और उत्तराखंड से गुजरने वाली गंगा के दो हिस्सों,जो पहले प्रदूषित थे,की पानी की गुणवत्ता में अब सुधार हुआ है और जैविक ऑक्सीजन मांग (BOD) में कमी आने यहाँ गंगा का पानी नहाने योग्य है,आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, जो जांच में पाई गई नदी के स्वास्थ्य का पता लगाता है।
प्रमुख तथ्य-BOD पानी की गुणवत्ता का आकलन करने के लिए एक महत्वपूर्ण पैरामीटर है,यह जैविक जीवों द्वारा ऑक्सीजन की खपत की मात्रा से संबंधित है।

:BOD की मात्रा जितना कम होगा,पानी की गुणवत्ता उतनी ही बेहतर होगी।
:गंगा के जल की गुणवत्ता का आकलन बाहरी स्नान के लिए प्राथमिक जल गुणवत्ता मानक के अनुसार किया जाता है,यह तब होता है जब अन्य कारकों के साथ BOD 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम होता है।
:2015 और 2021 के बीच गंगा नदी के पानी की गुणवत्ता की तुलना,उत्तराखंड (हरिद्वार से सुल्तानपुर) और बिहार (बक्सर से भागलपुर) से बहने वाली नदी का BOD स्तर 3 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम है,जो कि प्रदूषण रहित श्रेणी में आता है।
:स्वच्छ गंगा के लिए राष्ट्रीय मिशन (NMCG) अनुसार उत्तर प्रदेश (कन्नौज से वाराणसी) और पश्चिम बंगाल (त्रिवेणी से डायमंड हार्बर) में बहने वाली गंगा के अन्य दो हिस्सों में भी, BOD स्तर प्रदूषण श्रेणी में सबसे कम है – श्रेणी -5 (3-6 मिलीग्राम प्रति लीटर)
:जिन जल निकायों का BOD स्तर 6 मिलीग्राम प्रति लीटर से अधिक होता है,उन्हें प्रदूषित माना जाता है और उपचारात्मक कार्रवाई के लिए उनकी पहचान की जाती है।
:बिहार में BOD स्तर(दूसरी श्रेणी) 7.8-27 मिलीग्राम प्रतिलीटर था जबकि उत्तर प्रदेश में यह (तीसरी श्रेणी) 3.8-16.8 मिलीग्राम प्रतिलीटर था।


शेयर करें

Leave a Comment