Fri. Dec 2nd, 2022
शेयर करें

IAC-INS VIKRANT
आईएनएस विक्रांत भारतीय नौसेना को शीघ्र सौंपा जाएगा

सन्दर्भ-भारत का पहला स्वदेशी विमान वाहक (IAC),भारतीय नौसेना का जहाज INS विक्रांत मई,2022 तक भारतीय नौसेना को सौंप दिया जाएगा।
प्रमुख तथ्य-और स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त, 2022 को चालू किया जाएगा।
:INS विक्रांत का निर्माण कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड (CSL) द्वारा किया गया है।
:IAC विमान को कैरियर से लॉन्च करने के लिए स्की-जंप तकनीक का उपयोग करेगा।
:इसकी लागत करीब 23,000 करोड़ रुपये है।
:IAC 262 मीटर लंबा, 62 मीटर चौड़ा है और इसकी ऊंचाई 59 मीटर है और इसमें 2,300 से अधिक डिब्बे हैं।
:युद्धपोत मिग-29के लड़ाकू जेट, कामोव31 हेलीकॉप्टर और एमएच-60आर बहु-भूमिका हेलीकॉप्टर संचालित करेगा।
:विमानवाहक पोत के लगभग 60 प्रतिशत घटक स्वदेशी हैं जबकि शेष 40 प्रतिशत आयात किए गए हैं।
:CSL ने लगभग आठ पनडुब्बी रोधी युद्ध शैलो वाटर क्राफ्ट्स (ASW SWC) के लिए एक अनुबंध प्राप्त किया है।
:साथ ही,CSL को न्यू जनरेशन मिसाइल वेसल (NGMV) परियोजना के लिए सबसे कम बोली लगाने वाला घोषित किया गया है।


शेयर करें

By gkvidya

Leave a Reply

Your email address will not be published.