अल्ट्रासाउंड छवियों के लिए नई तकनीक का विकास

शेयर करें

IIT MADRAS-ULTRASOUND IMAGE NEW TECHNIC
अल्ट्रासाउंड छवियों के लिए नई तकनीक

सन्दर्भ-भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT),मद्रास के शोधकर्ताओं ने एक नई तकनीक विकसित की है जो पुनर्निर्मित अल्ट्रासाउंड छवियों के माध्यम से एक स्पष्ट और उच्च गुणवत्ता वाला दृश्य प्रदान कर सकती है।
प्रमुख तथ्य-अनुसंधान,बीमारियों के बेहतर निदान,सूक्ष्म असामान्यताओं का पता लगाने और बेहतर रीयल-टाइम छवि-निर्देशित बायोप्सी प्रक्रियाओं और उपचार निगरानी अनुप्रयोगों की सुविधा प्रदान कर सकता है।
:मानव शरीर के अंदर वास्तविक समय की छवियों को लेने के लिए अल्ट्रासाउंड इमेजिंग तकनीक का उपयोग किया जाता है।
:इसमें चिकित्सीय स्थितियों के निदान और उपचार में नैदानिक अनुप्रयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला है।
:इस तकनीक का व्यापक रूप से आंतरिक अंगों में दर्द,सूजन और संक्रमण के कारण का निदान करने और गर्भवती महिलाओं में भ्रूण की जांच करने के लिए उपयोग किया जाता है।
:अल्ट्रासाउंड मशीन का मुख्य घटक एक “बीमफॉर्मर” है,जो अंतिम पुनर्निर्मित छवि गुणवत्ता में एक प्रमुख भूमिका निभाता है।
:वर्षों से,बीमफॉर्मर को बदलकर पुनर्निर्मित छवि की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए कई तकनीकों की पहचान की गई है।
:टीम ने एक नई बीमफॉर्मिंग तकनीक विकसित करने का दावा किया है,जिसे अन्य मौजूदा तकनीकों से बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रदर्शित किया जाता है और पूरे क्षेत्र में सर्वोत्तम छवि रिज़ॉल्यूशन उत्पन्न करता है।
:हालांकि,इसका इमेज रेजोल्यूशन कम है,फिरभी विलंब और सम (DAS) बीमफॉर्मर हार्डवेयर कार्यान्वयन की सरलता के कारण वाणिज्यिक प्रणालियों में सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली अल्ट्रासाउंड इमेजिंग तकनीक है।
:हाल ही में,कम्प्यूटेशनल क्षमता में प्रगति के साथ,डैस की कमियों की भरपाई के लिए फ़िल्टर्ड डिले मल्टीप्ली एंड सम (FDMAS) तकनीक पर आधारित एक वैकल्पिक बीमफॉर्मर पेश किया गया था।

:टीम द्वारा किए गए इस अनुसंधान का निष्कर्ष ‘साइंटिफिक रिपोर्ट्स’ पत्रिका में प्रकाशित हुए हैं।


शेयर करें

Leave a Comment