अग्नि पी(AGNI-P) बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण

शेयर करें

AGNI-P BALESTIC MISSILE
अग्नि पी(AGNI-P) बैलेस्टिक मिसाइल

सन्दर्भ-डीआरडीओ ने 18 दिसंबर 2021 को नई पीढ़ी की परमाणु सक्षम बैलेस्टिक मिसाइल अग्नि-पी का सफलता पूर्वक परीक्षण किया।

अग्नि पि मिसाइल

:यह मध्यम दूरी की दो चरणों वाली कनस्तरीकृत(CANISTERISED) ठोस प्रणोदक बैलेस्टिक मिसाइल है,जिसमे दोहरी नेविगेशन तथा मार्गदर्शन प्रणाली है। इसका विकास DRDO ने किया है।

अग्नि मिसाइल

:इसकी स्थापना डॉ एपीजे अब्दुल कलाम द्वारा किया गया था,जिसका अनुमोदन भारत सरकार द्वारा 1983 में किया गया तथा इसे मार्च 2012 में पूरा किया गया।
:यह सतह से सतह पर करने वाली बैलेस्टिक मिसाइल है,इसकी पूर्व की श्रेणीयां है-1,2,3,4,5
:अग्नि-1,की मारक क्षमता 700-800 किमी।
:अग्नि -2,की मारक क्षमता 2000 किमी से अधिक।
:अग्नि -3,की मारक क्षमता 2500 किमी से अधिक।
:अग्नि -4,की मारक क्षमता 3500 किमी से अधिक।
:अग्नि -5,की मारक क्षमता 5000 किमी से अधिक है,यह इस श्रृंखला की सबसे लम्बी अंतर महाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल है।
प्रमुख तथ्य-:इसे ओडिसा के डॉ अब्दुल कलाम द्वीप से लांच किया।
:इस मिसाइल के ट्राजैक्टरी अर्थात प्रक्षेप वक्र और मापदंडों को विभिन्न टेलीमेट्री,राडार,इलेक्ट्रो ऑप्टिकल स्टेशन,और पूर्वी तट के साथ स्थित डाउन रेंज जहाजों के माध्यम से ट्रैक और मॉनिटर किया गया।
:अग्नि मिसाइल ने उच्च सटीकता के साथ मिशन के सभी उद्देश्यों को पूरा किया।
:इस वर्ष में अग्नि पी का दूसरा परीक्षण था।
:इसका विकास अग्नि-1 और अग्नि-2 के उत्ताधिकारी के रूप में किया गया है।
:यह अग्नि श्रेणी की छठी मिसाइल है।
:इसकी मारक क्षमता है 1000-2000 किमी के बीच है।

भारत ने किया अग्नि -5 का सफल परिक्षण किया

 


शेयर करें

Leave a Comment